कोविड 19 के कारण सात माह से बंद बकरी बाजार स्वीकृति के बाद खुली

धर्मेन्द्र गुप्ता (संवाददाता)

-गाइडलाइंस के अनुसार करना होगा नियमों का पालन

-ब्यापारियों को सेनिटाइज कर व मास्क, गमछे के साथ ही कराया गया प्रवेश

-कम संख्या में लोगों के पहुँचने के कारण कम दिखी रौनक

विण्ढमगंज । कोविड-19 के कारण पिछले सात माह से बंद पड़ा विंढमगंज का बकरी बाजार आज सोमवार को लगना शुरू हो गया। इस ग्रामीण सप्ताहिक बाजार के लिए उप जिलाधिकारी के द्वारा दिए गए गाइडलाइन के पालन के लिए ग्राम प्रधान और ठेकेदार को कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है।

जिले के सबसे बड़े बकरी बाजार के लिए प्रसिद्ध विंढमगंज का बकरी बाजार ग्रामीण अर्थव्यवस्था के लिए एक महत्वपूर्ण कड़ी है। आदिवासी इलाकों में बड़ी संख्या में लोग बकरी पालन का काम करते हैं लेकिन 7 महीने से बंद होने के कारण इनको इनके पशुओं का उचित कीमत नहीं मिल पा रहा था जिसके कारण ग्रामीणों को काफी नुकसान हो रहा था।
वहीं पशु बाजार न लगने के कारण विंढमगंज बाजार की भी रौनक समाप्त हो गई थी।
पिछले सप्ताह उपजिलाधिकारी कोविड-19 के गाइडलाइन के तहत सोशल डिस्ट्रिक्ट का पालन करते हुए बकरी बाजार लगाने की स्वीकृति दी थी। इस क्रम में आज बकरी बाजार विण्ढमगंज के भारतीय इंटर कॉलेज मैदान पर लगना शुरू हो गया। हालांकि पहले की तरह आज इस बाजार में व्यापारी बहुत कम ही आए थे लेकिन लोगों को उम्मीद है कि एक महीने के अंदर यह बाजार पुनः रौनक में आ जाएगी। आज सुबह से ही बकरी बाजार के ठेकेदार जावेद अहमद कुरैशी और ग्राम प्रधान पवन रजक लोगों को सोशल डिस्टेंस और मास्क लगाना बाजार में आने वालों को सेनेटाइज करने की व्यवस्था की गई थी। ग्रामीण जो अपने यहां से बकरी लेकर जैसे ही बकरी बाजार स्थल में प्रवेश कर ही रहे थे कि पहले से कोरौना महामारी के मद्देनजर सैनिटाइजर की व्यवस्था बनाई गई है। वहां पर सेनीटाइज होने के बाद मुंह पर गमछे या मास्क लगा कर के ही बाजार में प्रवेश करने दिया जा रहा था।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!