एसआइटी करेगी ग़ाज़ीपुर समेत 18 जिलों के एआरटीओ से पूछताछ

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही(ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर। उत्तर प्रदेश में विशेष अनुसंधान दल (एसआइटी) ने करोड़ों रुपये के ओवरलोडिंग घोटाले की जांच में भी अपने कदम बढ़ाए हैं। एसआइटी अब ग़ाज़ीपुर समेत 18 जिलों के तत्कालीन एआरटीओ से जल्द पूछताछ की तैयारी कर रही है। सभी को नोटिस देकर पूछताछ के लिए तलब किया जाएगा।
एसटीएफ ने गोरखपुर में करोड़ों रुपये का ओवरलोडिंग घोटाला पकड़ा था।तब गोरखपुर में परिवहन अधिकारियों व ढाबा संचालक धर्मपाल की सांठगाठ से ओवरलोड वाहनों से करोड़ों की अवैध वसूली का खेल सामने आया था। एसटीएफ ने धर्मपाल समेत छःआरोपितों को गिरफ्तार किया था।गोरखपुर के बेलीपार थाने में इसे लेकर बीते जनवरी माह में एफआइआर भी दर्ज कराई गई थी। बाद में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले की जांच एसआइटी को सौंपने का निर्देश दिया था।
शासन के आदेश पर बीते मार्च माह में एसआइटी ने गोरखपुर में दर्ज कराई गई एफआइआर की विवेचना शुरू की थी। ओवरलोडिंग घोटाले में उसकी जांच का दायरा अन्य जिलों में बढ़ता चला गया था। जांच में सामने आया था कि परिवहन अधिकारियों व कर्मियों की मिलीभगत से करीब 15 साल से हाईवे पर ओवरलोड वाहनों को पास कराकर सरकार को करोड़ों रुपये के राजस्व की हानि पहुंचाई जा रही थी।
एसआइटी अब इस मामले में गोरखपुर, ग़ाज़ीपुर, संतकबीरनगर, मऊ, मीरजापुर, चंदौली, वाराणसी, प्रयागराज, बस्ती, सिद्धार्थनगर, बलिया, जौनपुर व सोनभद्र समेत 18 जिलों के तत्कालीन एआरटीओ से पूछताछ करने जा रही है। सूत्रों का कहना है कि-एसआइटी को जांच के दौरान कई रजिस्टर मिले थे, जिसमें अवैध वसूली की काली कमाई से जुड़े लोगों का ब्योरा भी दर्ज था।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!