आदिवासियों की सैकड़ों एकड़ भूमि मामला पड़ा ठण्डा, उत्पीड़न बरकरार

अरविंद चौबे (संवाददाता)

मारकुंडी । राबर्ट्सगंज विकास खण्ड क्षेत्र के अन्तर्गत गुरमा मारकुंडी के 2900 बिगहा भूमि सर्वे के दौरान अभिलेखों में हेराफेरी कर भू माफियाओं के द्वारा हजम कर दिया गया था। इसके बाद आदिवासियों ने इस मामले को शासन प्रशासन से लेकर मुख्यमंत्री को भी अवगत कराया था जो दो माह पूर्व शासन प्रशासन के तमाम अधिकारियों ने जांच पड़ताल की प्रक्रिया कर के जगह आम लोगों के द्वारा अधिग्रहण किया गया भूमि का पैमाईश भी किया और आदिवासियों की जगह जमीन भी निकली लेकिन उस भूमि पर आज तक कब्जा तक तो दिलाया नहीं गया लेकिन आदिवासियों के जमीन सम्बन्थित तमाम मामले में मुकदमा दर्ज कर परेशान किया जा रहा है। इस सम्बन्ध में सुमीत कुमार गौंड, विजय गौड़, श्रीराम गौड़, रामलाल, सुखराम इत्यादि आदिवासियों ने बताया कि भू माफियाओं द्वारा तरह-तरह के हथकंडे अपना कर जहां परेशान किया जा रहा वहीं हमारे पशुओं पर भी अत्याचार किया जा रहा है। इसी क्रम में विजय गौड़ के गाय को बेरहमी से पीटने के पश्चात पैर तक तोड़ दिया गया जिसकी सूचना पुलिस चौकी पर देने के पश्चात भी मारने वाले लोगों पर कार्रवाई तक नहीं की गई। इस सम्बन्ध में आदिवासियों ने अपने पुस्तैनी भूमि के मामले के साथ अपनी सुरक्षा के साथ पशुओं की भी पुलिस अधीक्षक से सुरक्षा की मांग की है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!