कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का जंतर-मंतर पर धरना, कहा- हम न्याय चाहते हैं

कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने दिल्ली में जंतर-मंतर पर बुधवार को धरना दिया । कैप्टन अमरिंदर के साथ कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने भी धरना दिया और केंद्र सरकार के खिलाफ निशाना साधा ।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने जंतर-मंतर पर धरना के दौरान मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, ‘हम न्याय चाहते हैं। अगर आप हमारी आजीविका छीनते हैं तो यह अच्छी बात नहीं है। हमारी ट्रेनों और मालगाड़ियों को रोक दिया गया है । कोयले की सप्लाई न होने से पंजाब के सभी पावर प्लांट आज बंद हैं।’

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘हमारे जवान सियाचिन में बैठे हैं। हम कुछ ऐसा नहीं करेंगे जो देश के खिलाफ हो । हम केंद्र के खिलाफ बोलना नहीं चाहते थे या ऐसी कोई भी बात नहीं कर रहे थे जिसे राष्ट्र विरोधी माना जाए ।हमारे लोग सीमाओं की रक्षा कर रहे हैं।’ सीएम ने कहा कि गुरेज, द्रास, लेह, लद्दाख, चुसुल और गलवान सब जगह पंजाबी बैठे हैं। हम राष्ट्र विरोधी नहीं हैं ।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि तीन बिल पास किए गए । हम गरीब किसानों के लिए लड़ रहे हैं । क्या किसान कॉरपोरेट या किसी बैंक से मदद मांगने जाएगा । आप एक प्रणाली को दूसरी दमनकारी प्रणाली से दबा रहे हैं । सीएम ने कहा कि धर्म को मत छुओ और आजीविका के मुद्दे को मत छुओ। इससे तीखी प्रतिक्रिया की रफ्तार बढ़ती है ।

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, दो बातें हैं । हुक्मरानों कुछ नहीं चाहिए धन के मसले पर और 1 फीट के मसले पर । मैं अपने राज्य का गृहमंत्री हूं । पाकिस्तान से हर रोज दो से तीन ड्रोन आते हैं। वह किसी एंटी नेशनल और गुंडे के हाथ चले गए तो परेशानी खड़ी हो सकती । राष्ट्रीय सुरक्षा का सवाल है । हमें बखेड़ा नहीं चाहिए ।

कृषि कानूनों पर नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि ये गोरे अंग्रेजों के हाथों को नहीं बल्कि काले अंग्रेजों को मजबूत बनाने के लिए है। हम पंजाब में ये कानून नहीं लाएंगे. किसान की बलि चढ़ाई जा रही है। यह संविधान की भावना के खिलाफ हमला है।

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि गूंगी बहरी सरकार तक बात पहुंचाने के लिए धमाका जरूरी है। मैंने नियत की बात की है।नियत नीति में दिखती है और नीति सिर्फ दो पूंजीपतियों के लिए बनाई गई है । मोदी सरकार में अगर आप सोचते हों कि यह कानून सरकार किसानों के हक में बना रही है तो बहुत बड़ी गलतफहमी है । यह कानून सिर्फ दो पूंजीपतियों को रिमोट कंट्रोल देने के लिए बनाए गए हैं । आज मैं यह डंके की चोट से कहता हूं छाती ठोक के कहता हूं कि हम मरते मर जाएंगे लेकिन किसी के सामने पैर नहीं टेकेंगे ।

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘मैंने आज तक ऐसा कानून नहीं देखा जो किसान को कोर्ट में जाने से रोकता है । किसान का अगर कोई विवाद होता तो वो कोर्ट नहीं जा सकता है । वह एसडीएम के पास जाएगा या वह डीसी के पास जाएगा जिसका कंट्रोल सेंटर के पास होगा, और यह जनता के नुमाइंदे दार्शनिक घोड़े बना दिया जाएंगे जिनके हाथ में मदद करने की कोई ताकत नहीं होगी ।

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि जीएसटी की तरह ही वन नेशन वन मार्केट की बात की जा रही है। यह पंजाब के किसानों के लिए दोहरी मार है । आप हमारी पगड़ी पर हाथ डालोगे, हम उस हाथ को तोड़ देंगे । आप किसानों की बेइज्जती करेंगे, वो सहन नहीं होगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!