आज से घर-घर दस्तक देंगी टीमें, खोजे जाएंगे टीबी मरीज

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

● जनपद में 26 स्थानों पर बलगम जाँच केन्द्र हैं संचालित

● जनपद मुख्यालय पर सीबीनॉट लैब तथा एमडीआर मरीजों के इलाज के लिए डीआरटीवी सेण्टर हैं संचालित

● 2 नए ट्रू नॉट मशीन टीबी जाँच के लिए सामु0स्वा0 केन्द्र दुद्धी एवं चोपन में होंगी स्थापित

टीबी रोग से ग्रसित 18 वर्ष से कम उम्र के तीन बच्चों को लिया गया स्नेह गोंद

सोनभद्र । जिले में सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान की आज शुरुआत हो गई। जिसका शुभारंभ जिला क्षय केंद्र रॉबर्ट्सगंज में सदर विधायक भूपेश चौबे द्वारा किया गया। इस दौरान विशेष टीकाकरण अभियान के साथ सक्रिय क्षय रोगी खोज अभियान और गोल्डन कार्ड वितरण अभियान का भी उद्घाटन किया गया।

इस दौरान सदर विधायक भूपेश चौब ने कहा कि “हमारे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्ष 2025 तक देश से टीबी समाप्त करने का महत्वाकांक्षी लक्ष्य रखा है जो वैश्विक लक्ष्य से 5 वर्ष पूर्व का समय है। इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए जनभागीदारी बहुत महत्वपूर्ण है। लोग टीबी के लक्षणों को अनदेखा न करें। लक्षण दिखने पर नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर जांच कराएं। जांच में टीबी निकलने पर नियमित रूप से उपचार करें। अभियान की सफलता में टीम व कार्यकर्ताओं की अहम भूमिका होती है। इस मौके पर उन्होंने आम जनमानस से सभी चिह्नित क्षेत्र में टीम के पहुंचने पर सहयोग करने की अपील करते हुए लक्षणों के बारे में पूरी जानकारी देने, यदि किसी व्यक्ति में टीबी के लक्षण हैं तो उसे न छिपाने व जांच कराने की अपील भी की।”

वहीं, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0के0 उपाध्याय ने कहा कि “टीबी की दवा पूरी तरह से नि:शुल्क है, जो सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर उपलब्ध है। ऐसे में लोग अभियान की सफलता के लिए आगे आएं। जिससे जिले को टीबी मुक्त बनाया जा सके। टीबी का इलाज अधूरा छोड़ने पर गंभीर टीबी हो सकती है। जिसे एमडीआर एवं एक्सडीआर भी कहते हैं।”

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ0 बी0के0अग्रवाल ने बताया कि “यह अभियान 11 नवंबर तक चलेगा। इसके लिए 85 टीमें और 17 सुपरवाइजर लगाये गए हैं। अभियान के तहत टीमें घर-घर जाकर टीबी लक्षणों से ग्रसित रोगियों को खोजेंगी और उनके स्पुटम का परीक्षण कराकर उन्हें डाट्स पद्धति से मुफ्त उपचार दिया जाएगा। पूर्व के वर्षों में भी इस अभियान के छः चरण चलाये गये हैं और इस दौरान 723 मरीज खोजे गए थे। आज से सातवें चरण की शुरुआत हो रही है। इस चरण में जनपद की कुल 10 प्रतिशत आबादी की स्क्रिनिंग की जायेगी। जनपद सोनभद्र में वर्ष 2019 में कुल 3174 टीबी के मरीज चिन्हित किये गये थे, वर्ष 2020 में अब तक 2012 टीबी के मरीज चिन्हित किये गये हैं। इनमें 47 मरीज एमडीआर टीबी के हैं। जनपद में टीबी मरीजों के इलाज की सफलता का दर 91 प्रतिशत है।”

तत्पश्चात सदर विधायक भूपेश चौबे ने जिला क्षय केन्द्र, राबर्ट्सगज पर स्थापित एक एक्स-रे मशीन का उद्घाटन किया।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!