महाविद्यालय में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर का हुआ आयोजन

कृपाशंकर पांडे (संवाददाता)

-छात्राओं को मूल अधिकार एवं भारतीय दण्ड सहिंता बता जागरूक करते — अपर सिविल जज विजय शंकर गौतम

ओबरा। नगर के राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय ओबरा में नेशनल कमीशन फार वूमेन एवं उत्तर प्रदेश राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के निर्देशों के अनुपालन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोनभद्र द्वारा बुधवार की देर सायं तक महाविद्यालय परिसर में विधिक साक्षरता एवं जागरूकता शिविर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें महिलाओं को उनके मूल अधिकार एवं भारतीय दण्ड सहिंता एवं अनैच्छिक गतिविधियों द्वारा स्वयं की सुरक्षा के बारे में विस्तार से बताया गया।कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित अपर सिविल जज जूनियर डिवीजन सोनभद्र विजय शंकर गौतम ने छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि
छात्राओं की पहली शिक्षा माता के गोद से प्रारम्भ होती है एवं वही से समाज की संरचना प्रारम्भ होती है।एवं छात्राओं के मूल अधिकार के बारे में बताते हुए कहा कि हमारे भारतीय संस्कृति में नारियों की पूजा होती है,अपराध सहने वाला अपराधी से ज्यादे दोषी होता है इसलिए छात्राए निर्भीक होकर अपनी आवाज तुरन्त उठाए एवं उनके जो भी अधिकार है उसे जाने एवं उसके लिए तुरन्त लड़े।साथ ही छात्राओं को पारिवारिक नियम के तहत पिता के सम्प्पति पर अधिकार के भी बारे में बताया।इसी क्रम में मुख्य वक्ता के रुप में वरिष्ठ साहित्यकार एवं राष्ट्रपति पुरस्कृत शिक्षक ओम प्रकाश त्रिपाठी ने छात्राओं को बताया कि आप के अंदर सोचने की शक्ति है आप आस,विश्वास भरोसा किस पर कर रहे है यह अच्छे से सोच लें साथ ही श्री त्रिपाठी ने छात्राओं के कौशल विकास पर प्रकाश डालते हुए एवं महिलाओं के मूल अधिकार,गोपनीयता,घरेलू हिंसा से सुरक्षा,महिलाओं के साथ हिंसा पर दण्ड एवं विधान,एंटीरोमियो अभियान,हेल्पलाइन नम्बर,निःशुल्क कानूनी सहायता,सुरक्षित कार्य स्थल,समान वेतन,कन्या भ्रूण हत्या के बारे में,उच्चतम न्यायलय के निर्देश,भारतीय दण्ड विधान की धारा,कानून दण्ड,साइबर अपराध के बारे में समझाते हुए विस्तृत प्रकाश डाला।वही आकाशवाणी ओबरा से शान्ति वर्मा ने छात्राओं को बताया आप अनैच्छिक गतिविधियों यानी जो आप के इच्छा के विरुद्ध हो जैसे अश्लील हरकत,अभद्र व्यववार आप उसका शिकार न बने।आपको कोई किस नियत से देख रहा है किस नियत से स्पर्श कर रहा है इससे अगर आप को असुविधा महसूस होने वाली है तो तुरन्त महिला हेल्प लाइन नंबर 1090 पर काल करें।अपने अधिकारों हनन मत होने दे और जो आपके कर्तव्य है उसका पालन करें।अधिकारों के साथ साथ खुद जिम्मेदार बने और 80 प्रतिशत अपना कर्त्तव्य निभाइये 20 प्रतिशत अधिकार खुद मिल जायेगा।कार्यक्रम में प्राध्यापक विभा पाण्डेय ने कहा कि छात्राए शिक्षा व्यवस्था पर ध्यान दें एवं अपने अधिकारों का सही प्रयोग करें।कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ प्रमोद कुमार ने छात्राओं से कहा कि इस अवसर पर आपने जो भी गूढ़ बाते हासिल की उसको अपने जीवन मे आत्मसात करें।अपने विवेक का सही उपयोग करें।जागरूक हो साक्षर बने क्योंकि आप विधिक रुप से जागरूक है, साक्षर तो आप विकट परिस्थितियों में अपने साथ साथ दूसरों के लिए भी उपयोगी साबित हो सकती हैं।कार्यक्रम का सफल संचालन वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ राधाकान्त पाण्डेय ने किया।
इस अवसर पर डॉ किशोर कुमार सिंह,डॉ सुनील कुमार,डॉ संतोष कुमार सिंह,डॉ विकास कुमार,प्रो उपेन्द्र कुमार,डॉ विनोद बहादुर सिंह,डॉ अमूल्य कुमार सिंह,डॉ ज्ञानेंद्र कुमार सिंह,एड उमेश चन्द्र मिश्रा, जाहिरुल हसन जैदी,प्रमोद केशरी,महेश कुमार पाण्डेय,एवं महाविद्यालय के एनसीसी कैडेट्स सहित तमाम छात्राए उपस्थित रही।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!