कनहर नदी में डूबते हुए वृद्ध की ग्रामीणों ने बचाई जान

रमेश यादव ( संवाददाता

दुद्धी।जाको राखे सईयां मार सके न कोए —- वाली कहावत मंगलवार को दूधमनिया गांव के एक बुजुर्ग के साथ सच हो गई। मंगलवार को टेढ़ा गांव के छठ घाट के पास कनहर नदी पार कर रहा एक बुजुर्ग पानी डूबने लगा और वह गहरे पानी होने के कारण बहते हुए करीब 200 मीटर नीचे चला गया ।जैसे ही कुछ देर बाद नदी किनारे मौजूद ग्रामीणों की नजर बहते हुए बुजुर्ग पड़ी तो ग्रामीणों ने तत्काल हौसला दिखाते हुए बहते नदी में कूद गए और बुजुर्ग की जान बचाई ।बहते पानी से निकालने के बाद शुरू में बुजुर्ग थोड़ी देर के लिए कुछ बता नही पा रहा था जैसे ही ग्रामीणों ने धीरज बंधाया तो उन्होंने अपना नाम और घर का पता बताया इतने में ग्रामीणों ने फोटो खींचकर कर सोशल मीडिया वटशॉप पर भेज दिया और उसकी पहचान हुई ।दर असल दूधमनिया( सुन्दरी ) गांव का बुजुर्ग अपने गांव से दूसरे गांव कही मेहमानी करने जा रहा था कि टेढ़ा गांव में छठ घाट के पास नदी पार करने लगा ।गहरे पानी का अंदाजा न मिलने के कारण वह बहने लगा ।नदी में बहते बुजुर्ग पर चरवाहों की नजर पड़ी तो लोगों उसको बहते पानी से बचाया ।नदी में बहते समय नदी की पत्थर से बुजुर्ग को एक पैर के घुटने में कुछ चोटें भी आई है। सूचना पर बुजुर्ग शेषमन उम्र करीब 78 पुत्र दुखी साव निवासी दूधमनिया ( सुंदरी )चौकी अमवार तथा कोतवाली क्षेत्र दुद्धी को उसके परिजन घटना स्थल पहुचकर वृद्ध को घर ले गया।नदी में बहते वृद्ध को बचाने वालों में नन्दलाल यादव व अन्य ग्रामीण शामिल रहे।ग्रामीणों की इस तरह मदद चारो ओर चर्चा की जा रही हैं और हर कोई वृद्ध को देखकर कह रहा है कि जाको राखे सईयां तो मार सके न कोई —-



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!