हिण्डाल्को रामलीला परिषद ने दशहरे पर रावण दहन की रखी परम्परा

मनोज बर्मा (संवाददाता)

रेनुकूट। रेनुकूट में पिछले 55 वषों से चली आ रही रामलीला का इस बार कोविड-19 के चलते विराम लग गया था जिसके चलते दशहरे के दिन जलने वाले रावण के पुतले का दहन भी इस बार फीका रहा लेकिन हिंडालको रामलीला परिषद् रेणुकूट ने दशहरा के दिन रावण के पुतले पर दहन करना की परंपरा जारी रखा वहीं इस बार रेणुकूट में हर साल 80 फीट रावण के पुुुुतला की अपेक्षा इस बार सबसे छोटा रावण का पुतला दहन किया गया जिसकी ऊंचाई 15 फिट की थी वही रावण के पुतलेे के दहन को यूट्यूब केेे माध्यम से सीधा प्रसारण दिखाया जा रहा था जिससे रेणुकूट नगर वासियों के साथ साथ अन्य जगहों पर बैठे लोग भी दशहरे पर रावण दहन का आनंद ले रहे थे । उसके बाद राज्याभिषेक की सुंदर झाकी प्रस्तुत किया गया जिसे देख वहा मौजूद अतिथियों ने पूजा अर्चना किया इससे पहले हिंडाल्को इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मुखिया सतीश जाजू ने गणेश पूजन कर रावण पुतले में आग लगाई उन्होंने अंत में सभी रेणुकूट नगर वासियों को दशहरा और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं भी दिया बता दे कि इस बार
कोविड-19 के चलते किसी भी दर्शकों को रामलीला मैदान में जाने से गेट पर ही रोक दिया गया था बस कुछ सम्मानित लोगों पत्रकारगण के अलावा रामलीला परिषद के सदस्यों को ही मैदान में जाने की इजाजत मिली थी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!