प्रधानाध्यापक ने घर- घर जाकर वितरित किया मॉस्क,कोरोना के प्रति किया जागरूक

रमेश यादव ( संवाददाता )

दुद्धी ।दुद्धी शिक्षा क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय अमवार कालोनी के प्रधानाध्यापक नीरज चतुर्वेदी अपनी मेहनत व लगन से शिक्षा के नवाचार के लिए चर्चा रहते हैं जिनके लिए इन्हें कई बार पुरस्कृत भी किया जा चुका है।इस साल मार्च से कोविड 19 के कारण जब लॉकडाउन लगा तो नीरज चतुर्वेदी बच्चों के पढ़ाई को लेकर चिंतित थे क्योंकि ग्रामीण इलाकों के बच्चों के अभिभावकों के पास न तो एंड्राइड मोबाइल है और न ही टी वी ।ऐसे में ऑनलाइन पढ़ाई कैसे सफल होगी।हालांकि सरकार द्वारा बच्चों के स्कूल आने पर रोक लगा दी गई है फिर भी नीरज चतुर्वेदी जैसे कर्मठ अध्यापकों ने स्कूल में जाकर बैठने से बेहतर घर -घर जाकर कोविड 19 का ध्यान रखते हुए बच्चों को पढ़ाना ही अपना कर्तव्य समझा और अभिभावकों को विश्वास में लेकर मुहल्ला स्कूल की तर्ज पर पढ़ाना शुरू कर दिया जिसकी अभिभावकों ने जमकर सराहना की ।

इस तरह के अध्यापकों के मेहमत को देखते हुए शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भी इनकी मनोबल बढ़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते हुए प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित करने का काम किया। अब जब धीरे धीरे कुछ हालात सामान्य होने की स्थिति को देखते हुए जब 9 से 12 तक के स्कूल खोलने के आदेश जारी किए गए हैं ऐसे में इन्होने प्राथमिक विद्यालय अमवार कॉलोनी मे नामांकित 69 बच्चों मे से 51 बच्चों को घर घर जाकर मास्क का वितरण किया।इसके अलावा बच्चों के अभिभावकों को भी मास्क वितरित किया और साथ ही भीड़ भाड़ वाले जगहों पर हमेशा मास्क लगाने के लिए प्रेरित किया। कोरोना से बचाव के लिए बार बार साबुन से हाथ धोने तथा सैनिटाइजर के उपयोग के लिए जागरूक किया ।उन्होंने कहा कि जागरूकता से ही कोरोना से बचा जा सकता है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!