जिलाधिकारी ने समीक्षा बैठक में कसें अधिकारियों के पेंच

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । आज जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने विकास भवन मीटिंग हाल में कार्यदायी संस्थाओं के साथ समीक्षा बैठक का आयोजित की गई।

जिलाधिकारी ने बताया कि “शासन की मंशा के अनुरूप विकास परक कार्यक्रमों, जन कल्याणकारी योजनाओं कार्यक्रमों को समयबद्ध तरीके से पूरी पारदर्शिता व गुणवत्ता के साथ पूरा किया जाय। कार्यदायी संस्थाओं पर शिथिल नियंत्रण रखने वाले वरिष्ठ अधिकारी कार्यों को मूर्त रूप देने के लिए ठोस कदम उठायें। विभागों के निर्माण कार्य को कार्यदायी संस्था पूरी जिम्मेदारी के साथ हर हाल में पूरा करायें। शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्य की पूर्ति हेतु सम्बन्धित अधिकारी पूरी संसाधन से लगकर अपने कार्यों को पूर्ण करने में लग जायें।”

जिलाधिकारी ने समीक्षा के दौरान पाया कि कि पैक्सफेड कार्यदायी संस्था द्वारा धन प्राप्त करने के बावजूद बेसिक शिक्षा विभाग के कस्तूरबा स्कूल के छात्रावास को पूरा नहीं किया जा रहा है, जिस पर उन्होंने पैक्सफेड के खिलाफ अमानत में खयानत के तहत एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को दिया। इसी प्रकार से उन्होंने यूपीपीसीएल के पदाधिकारी को गैर हाजिर रहने पर लापरवाह अधिकारी के खिलाफ प्रबन्ध निदेशक को पत्र भेजने के निर्देश दिया। आवास-विकास परिषद के अधिशासी अभियन्ता के गैर हाजिर रहने व पैसा प्राप्त करने के बावजूद सामुदायिक स्वास्थ्य भवन, प्राथमिक स्वास्थ्य भवन आदि का काम पूरा न करने पर गैर जिम्मेदारी के लिए शासन को पत्र और सम्बन्धित विभाग यानी यूजर एजेन्सी द्वारा आवास-विकास परिषद के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों को दायित्वबोध कराते हुए कहा कि जिस विभाग की परियोजनाएं यानी निर्माण कार्य हो रहे हैं, वे अपने विभागीय कार्य स्थल का स्थलीय निरीक्षण करके ही बैठक में वास्तविक स्थिति को पेश करेंगें। जिलाधिकारी ने राजकीय निर्माण निगम द्वारा पैसा प्राप्त करने के बावजूद कार्यों को पूरा न करने पर फटकार लगाते हुए राजकीय निर्माण निगम के जिम्मेदार अधिकारी के खिलाफ शासन को पत्र भेजने के निर्देश दिया। आश्रय योजना को अधूरा रखने, सी एण्ड डीएस के प्रोजेक्ट मैनेजर को गैर हाजिर रहने, प्रगति रिपोर्ट खराब रहने पर सी एण्ड डीएस के प्रोजेक्ट मैनेजर के खिलाफ कार्यवाही करने के लिए सक्षम स्तर के अधिकारियों को निर्देश दियें।

जिलाधिकारी ने कहा कि लोक निर्माण विभाग अपने कार्यों में सुधार लायें और जो पैसे उनको उपलब्ध कराये गये हैं, उनके सापेक्ष सभी कार्योंं को पूरा करायें। समीक्षा के दौरान आंगनबाड़ी केन्द्रों का निर्माण शिथिल पाया जाना और जमीनों के चयन में जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा रूचि न लेने पर दायित्वबोध कराते हुए जिला कार्यक्रम अधिकारी को सचेत करते हुए जल्द से जल्द समन्वय के साथ आंगनबाड़ी केन्द्रों का काम पूरा कराने के निर्देश दियें। जिलाधिकारी ने कहा कि स्थानीय जरूरतों के मुताबिक सम्बन्धित अधिकारियों के मांग पर धनराशि उपलब्ध कराये जाने पर काम को पूरा न होना, यूजर एजेन्सी/सम्बन्धित विभाग के गैर जिम्मेदारी का सबूत है, जो यूजर एजेन्सी/सम्बन्धित विभाग, कार्यदायी संस्था के साथ हमदर्दी रखेगा और समय से काम पूरा नहीं करायेगा, उन विभागों के अधिकारियों की मिलीभगत यानी दायित्वबोध को तय करते हुए कार्यवाही भी की जायेगी। जिलाधिधिकारी ने कहा कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मूर्तिया, घोरिया व पूर्व प्रधानमंत्री स्व0 अटल आवासीय स्कूल के लिए डीएमएफ फण्ड से सड़क बनाने की व्यवस्था कराने के लिए कार्यवाही अमल में लायी जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि जिले की महत्वाकांक्षी पेयजल योजनाओं में राबर्ट्सगंज-धंधरौल पेयजल योजना, कुण्डारी पेयजल योजना, कुलडोमरी पेयजल योजना, अनपरा पेयजल योजना आदि को जल्द से जल्द पूरा किया जाय।

बैठक में जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम के अलावा मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 एस0के0 उपाध्याय, जिला अर्थ एवं संख्याधिकारी ओ0पी0 यादव, जिला पंचायत राज अधिकारी विशाल सिंह, कार्यदायी संस्थाओं के प्रतिनिधिगण आदि मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!