झोलाछाप डॉ की दंबगई, तोड़ा सरकारी सील किया हुआ ताला, स्वास्थ्य विभाग जांच में जुटी

मुकेश अग्रवाल (संवाददाता)

बीजपुर। स्थानीय थाना क्षेत्र के बीजपुर बाजार स्थित एक अवैध क्लिनिक पर बीते 16 सितंबर को इलाज के दौरान हुई एक मरीज की मौत के मामले में स्वास्थ्य विभाग द्वारा सील किये गए निजी अवैध क्लीनिक का सील किया हुआ ताला तोड़कर उक्त क्लिनिक के तथाकथित डॉ द्वारा क्लिनिक फिर से खोल दिया गया। मामले की सूचना मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौके पर पहुँचकर जांच किया तथा कानूनी कार्यवाई करने की बात कही।
ज्ञातव्य है कि पिछले दिनों लगभग तीन सप्ताह पूर्व बीजपुर बाजार स्थित उक्त अवैध निजी अवैध क्लीनिक में इलाज के दौरान 40 वर्षीय एक व्यक्ति की इलाज के दौरान मौत हो गई थी मरीज की मौत के मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोनभद्र एस के उपाध्याय ने तत्काल चिकित्सा अधीक्षक म्योरपुर शिशिर श्रीवास्तव के नेतृत्व में एक टीम का गठन करके उक्त क्लिनिक की जांच कर रिपोर्ट देने का आदेश दिया था घटना के दूसरे दिन ही गठित टीम ने उक्त क्लिनिक पर छापेमारी करके गहनता से जांच पड़ताल किया तो पता चला कि उक्त क्लिनिक का न तो लाइसेंस है न ही डॉक्टर के पास कोई डिग्री है और ना ही वहाँ रखी गयी दवाइयों का कोई मेडिकल स्टोर का लाइसेंस है।जिसपर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उक्त तथाकथित डॉक्टर को कड़ी फटकार लगाते हुए क्लिनिक को सील कर दिया था लेकिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोई कानूनी कार्यवाई नही करने के कारण क्लिनिक के डॉ ने गुरुवार की रात में क्लिनिक का सरकारी सील लगा हुआ ताला तोड़कर क्लिनिक फिर से खोल लिया। मामले की जानकारी होने पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक शिशिर श्रीवास्तव के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम शुक्रवार की दोपहर में उक्त क्लीनिक की जांच करने पहुंचे तो पाया कि क्लिनिक का सील किया हुआ ताला तोड़ कर दूसरा ताला लगा दिया गया है तथा मौके पर क्लिनिक का तथाकथित डॉ भी मौजूद नही है । जिस पर टीम द्वारा डॉ से सम्पर्क करके उनका पक्ष जानने की कोशिश किया गया कि किसके आदेश पर क्लिनिक का सील तोड़ा गया मगर क्लिनिक के डॉ से संपर्क नही हो सका।

इस संदर्भ में जब समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक म्योरपुर डॉ शिशिर श्रीवास्तव से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि हमारे पास से ताला खोलने या ताला तोड़ने का कोई आदेश नहीं दिया गया है ना ही सीएमओ कार्यालय से कोई आदेश है सील किये गए सरकारी ताले से छेड़छाड करना या तोड़ना गैरकानूनी है जांच में पाया गया है कि सील किया गया ताला तोड़ दिया गया है आसपास के दुकानदारों से पूछताछ कर बयान ले लिया गया है पूरी जांच रिपोर्ट जिला सीएमओ कार्यालय भेज कर, दो से तीन दिनों के अंदर कानूनी कार्यवाई की जाएगी। जाँच टीम में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र म्योरपुर अधीक्षक डॉ शिशिर श्रीवास्तव,डॉ गुरु प्रसाद मौर्य नोडल इंचार्ज झोलाछाप के साथ स्वास्थ्य विभाग के अन्य कर्मचारी शामिल रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!