बिहार पुलिस की नौकरी छोड़ कैसे मौसम वैज्ञानिक बन गए दलित नेता रामविलास पासवान, पढ़ें पूरी खबर

केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की उम्र में गुरुवार शाम निधन हो गया । वो लंबे समय से बीमार चल रहे थे । उनके बेटे और एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने अपने ट्विटर हैंडल पर राम विलास पासवान के निधन की पुष्टि की है। चिराग पासवान ने अपने ट्वीट में लिखा, “पापा….अब आप इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं । Miss you Papa…”

राम विलास पासवान को मजाक में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव मौसम वैज्ञानिक बुलाते थे । इसकी वजह यह थी कि रामविलास पासवान हमेशा सत्ता के साथ रहे । उन्होंने छह प्रधानमंत्रियों के साथ कैबिनेट में काम किया था । राम विलास पासवान जो एक समय में कांग्रेस की सत्ता के खिलाफ इमरजेंसी के दौरान जेल गए थे, बाद में उसी की अगुवाई वाली यूपीए सरकार में मंत्री भी रहे । उस दौरान बीजेपी उनकी नीतियों का विरोध करती थी लेकिन मौजूदा मोदी सरकार में पासवान फिर से मंत्री बने।

रामविलास पासवान का जन्म बिहार के खगड़िया जिले में 5 जुलाई 1946 को हुआ था। 3 भाइयों में रामविलास पासवान सबसे बड़े थे। करीब साल भर पहले उनके मंझले भाई रामचंद्र पासवान का भी निधन हो गया था। अब उनकी पार्टी की बागडोर बेटे चिराग पासवान संभाल रहे हैं। रामविलास पासवान ने 2019 का लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था। उनकी जगह उनके छोटे भाई पशुपति कुमार पारस हाजीपुर से लोकसभा चुनाव लड़े थे।

केंद्रीय मंत्री रहे रामविलास पासवान अपने सियासी करियर में 11 चुनाव लड़ चुके हैं। 11 में से अभी तक वह 9 चुनाव जीतने में सफल रहे हैं। बिहार में पासवान जाति में उनकी अच्छी पकड़ है। रामविलास से सियासी अदावत की वजह से नीतीश कुमार ने पासवान जाति को महादलित में नहीं शामिल किया था।

रामविलास पासवान ने सियासी करियर में 6 प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया है। पहली बार वह 1989 में वीपी सिंह की सरकार में मंत्री बने थे। दूसरी बार 1996 में देवगौड़ा और गुजराल सरकार में वह रेल मंत्री बने थे। 1999 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में रामविलास पासवान संचार मंत्री थे। 2004 में वह यूपीए से जुड़े और मनमोहन सरकार में रसायन मंत्री बने थे। 2014 में एनडीए में शामिल हुए और नरेंद्र मोदी की सरकार में खाद्य आपूर्ति मंत्री बने।

दरअसल, रामविलास पासवान एनडीए सरकार में मंत्री थे। 2002 के गुजरात दंगों को लेकर रामविलास पासवान ने सरकार से इस्तीफा दे दिया। उसके बाद लोग हैरान रह गए थे। 12 साल बाद 2014 में नरेंद्र मोदी की सरकार में वह केंद्रीय मंत्री बनें।

रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी को पहली बार 2005 में सम्मानजनक सीटें मिली थीं। किसी भी दल की सरकार रामविलास पासवान के मदद के बिना नहीं बन सकती थी। लेकिन रामविलास पासवान मुस्लिम मुख्यमंत्री की मांग को लेकर अड़े हुए थे। उनकी मांग पर जेडीयू और आरजेडी तैयार नहीं थी। उसके बाद 2005 अक्टूबर में फिर से विधानसभा चुनाव हुआ है। रामविलास पासवान को मुंह की खानी पड़ी।

बहुत कम लोग जानते हैं कि रामविलास पासवान शुरुआत में बिहार पुलिस में नौकरी करते थे। बिहार पुलिस की नौकरी छोड़ कर राजनीति में उतरे पासवान पहली बार 1969 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से बिहार विधानसभा के लिए विधायक चुने गए थे।

रामविलास पासवान जेपी को अपना आदर्श मानते रहे हैं। छात्र जीवन से वह समाजवादी आंदोलन में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते रहे हैं। 1975 में इमरजेंसी की घोषणा के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था। साल भर से ज्यादा वक्त उन्होंने जेल में गुजारी थी। 1977 में रामविलास पासवान को जेल से रिहा किया गया था।

रामविलास पासवान का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रेकॉर्ड में भी दर्ज है। वह 1977 में जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर रेकॉर्ड मतों से हाजीपुर लोकसभा सीट से जीत हासिल की थी।

रामविलास पासवान ने विभिन्न दलों में रह कर अपने सियासी करियर पंख दिया है। इस दौरान वह लोक दल, जनता पार्टी-एस, समता दल, समता पार्टी और फिर जदयू में रहे हैं। उसके बाद 28 नवंबर 2000 को उन्होंने दिल्ली में अपनी अलग पार्टी बना ली थी। नाम लोक जन शक्ति पार्टी रखा था। यह पार्टी बिहार से ज्यादा केंद्र में ही सत्ता में रही है।

मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद रामविलास पासवान सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहते थे। वह अपने विभागीय कार्यों से लोगों को अवगत कराते रहते थे। सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्मों पर उन्हें लाखों लोग फॉलो करते हैं।

रामविलास पासवान लंबे समय से बीमार चल रहे थे। अस्वस्थ रहने की वजह से वह राजनीति में सक्रिय नहीं रहते थे। इसलिए उन्होंने पार्टी की जिम्मेदारी बेटे चिराग पासवान को सौंप दी थी। अब चिराग ही पार्टी को संभाल रहे थे। बिहार चुनाव में चिराग पासवान ने एनडीए से अलग होकर लड़ने का फैसला किया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!