कर्मनाशा रेलवे पुल पर लगा वाटर लेवल मॉनिटरिग सिस्टम

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही(ब्यूरो)ग़ाज़ीपुर। बारा अब कर्मनाशा रेलवे पुल पर नदी का जलस्तर मापने के लिए मीटर गेज की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसे नई तकनीक वाटर लेवल मॉनिटरिग सिस्टम से मापा जाएगा। सेंसर युक्त इस नए उपकरण से जलस्तर के साथ ही रेलवे ट्रैक की पूरी जानकारी मिल सकेगी। सिस्टम से जुड़े अधिकारियों के मोबाइल पर एलर्ट मैसेज भी आता रहेगा। दानापुर – पीडीडीयू रेल खंड के दायरे में महत्वपूर्ण नदी कर्मनाशा पर बने पुल पर इसे लगा दिया गया है।पहले पारंपरिक गेज पद्धति से नदियों का जलस्तर पता किया जाता था। इसमें तत्कालिक सूचनाएं नहीं मिल पाती थी। इससे रेलवे ट्रैक और पुल पर खतरे का आंकलन मुश्किल भरा होता था। अब आधुनिक वाटर लेवल मॉनिटरिग सिस्टम के इस्तेमाल से पुल की मॉनिटरिग आसान हो जाएगी। इलाहाबाद कंट्रक्शन वर्कर्स कंपनी के इंजीनियर अश्वनी कुमार ने बताया कि कर्मनाशा पुल पर इस सिस्टम को लगाया गया है। भविष्य में रेलवे द्वारा सभी बड़े पुलों पर वाटर लेवल मॉनिटरिग सिस्टम को लगाए जाने की योजना है।इस तरह काम करता है सिस्टम सेंसर युक्त यह सिस्टम सौर ऊर्जा से संचालित होता है। यह सेंसर ट्रैक मैनेजमेंट सिस्टम से जुड़ा होता है। इसमें एक चिप लगा रहता है। उसमें पुल से संबद्ध सहायक मंडल इंजीनियर, कार्य निरीक्षक और रेल पथ निरीक्षक आदि के मोबाइल नंबर फीड रहते हैं। पुल पर जलस्तर बताने वाले स्केलर को सेंसर सिस्टम रीड करता है। जब जलस्तर खतरे के निशान से घटता या बढ़ता है तो स्वत: संबंधित इंजीनियरों व अधिकारियों को एसएमएस भेजता है। वाटर लेवल मॉनिटरिग सिस्टम खराब मौसम और रात के लिए उपयुक्त है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!