जिलाधिकारी की जाँच में खुली पोल, दुद्धी निरीक्षण में अधूरे मिले आवास, जांच के लिए टीम गठित

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने आज नगर पंचायत दुद्धी क्षेत्र में बने आईएचएसडीपी योजना के तहत आवासों का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने नगर पंचायत दुद्धी के वार्ड नम्बर-2 के उत्तरी मोहल्ला में बने आवास सुरेश व संजय का देखा और आवासों को अधूरा पाया। जिलाधिकारी ने मौके पर मौजूद कार्यदायी संस्था सी एण्ड डीएस के इंजीनियर से कैफियत तलब की और पाया कि 445 आवास आईएचएसडीपी के तहत बनाये जाने थे, जिमसें 40 अपात्र पाये गये यानी 445 में से 40 लोगों का किसी न किसी योजना से आवास बन चुके थे, बाकी बचे 405 आवासों में से 396 आवास पूरे हैं और 5 आवासों की छत पड़ी है और 4 आवास की नींव भरी गयी है। जिलाधिकारी ने यह पाया कि आवास अधूरे हैं, आवासों की गुणवत्ता व वास्तविक स्थिति के सम्बन्ध में जिलाधिकारी ने चार सदस्यीय टीम गठित कर आईएचएसडीपी आवासों की जॉच कराने के निर्देश दिया।

जिलाधिकारी ने कहा कि “जॉच टीम में अधिशासी अधिकारी सी एण्ड डीएस के इंजीनियर, लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर व राजस्व विभाग के अधिकारी को शामिल किया जाय।”

जिलाधिकारी ने निरीक्षण के दौरान आनन्द कुमार भारती के घर के पास पाया कि बनी हुई आरसीसी रोड पर आनन्द भारती के परिजन लोहे का पक्का गेट लगाकर बन्द रखे हैं। जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारी दुद्धी प्रकाश चन्द्र को निर्देशित किया कि इस तथ्य की जॉच की जाय कि जब नगर पंचायत या सरकार की तरफ से आरसीसी रोड बनायी गयी है, तो किसी आधार पर निजी लाभ के लिए दरवाजा लगाकर रास्ते को बाधित किया गया है। ऐसा सार्वजनिक सड़क के होते हुए किया गया है, तो दरवाजा लगाने वाले से वसूली की कार्यवाही की जाय। जिलाधिकारी ने मौके के पर मौजूद सी एण्ड डीएस के इंजीनियर का दायित्वबोध कराते हुए कहा कि आईएचएसडीपी योजना के तहत मानक के अनुरूप आवासों को हर हाल में पूरा कराया जाय। आकस्मिक निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम के अलावा उप जिलाधिकारी दुद्धी प्रकाश चन्द्र सहित अन्य सम्बन्धितगण मौजूद रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!