नहीं रहे बुंदेलखंड के गांधी जमुना प्रसाद बोस, 92 साल की उम्र में हुआ निधन

बाँदा । पूर्व मंत्री जमुना प्रसाद बोस का आज 92 साल की उम्र में निधन हो गया । श्री बोस सपा सरकार में कई बार रह चुके थे । पूर्व विधायक का लखनऊ में इलाज चल रहा था । उनकी खराब तबियत को लेकर कल ही अखिलेश यादव ने हालचाल जाना था । जमुना प्रसाद बोस की ईमानदारी को लेकर हर कोई उनकी मिशाल दिया करता था । यही कारण है कि वे बुंदेलखंड के गांधी कहे जाते थे । श्री बोस आजादी के आंदोलन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी । पूर्व विधायक की मौत के बाद पूरे बाँदा में शोक की लहर देखा जा सकता है ।

ऐसे था जमुना प्रसाद बोस का जीवनकाल

चार बार विधायक और दो बार मंत्री होने के बाद भी जमुना प्रसाद बोस के पास अपना घर नहीं है। किराए के घर में रहने वाले 92 साल के बोस की ईमानदारी पर लोगों को नाज है। उन्हें जिस कार्यक्रम में बुलाया जाता है, वह समय से पहुंचते हैं।

1938 में सुभाष चंद्र बोस त्रिपुरी कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए, तभी से जमुना प्रसाद के साथी उन्हें भी बोस कहने लगे। 1974 में जमुना प्रसाद बोस प्रजा सोशलिस्ट पार्टी से पहली बार बांदा सदर से विधायक बने। 1977 में यूपी के ग्राम विकास व पंचायती राज मंत्री बने।

1985 में फिर विधायक बने। 1989 में मुलायम सरकार में पशुपालन व मत्स्य मंत्री रहे। सत्ता में होने के बाद भी वह अपने लिए घर तक नहीं बनवा सके। बोस बताते हैं कि 1945 में बहन की शादी के लिए पैतृक मकान 500 रुपये में बिक गया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!