खनन सम्बन्धी अवैध धन उगाही की शिकायत पर तीन सदस्यीय उच्चस्तरीय जांच कमेटी गठित

धर्मेन्द्र गुप्ता (संवाददाता)

– उपजिलाधिकारी दुद्धी, ज्येष्ठ खान अधिकारी व गैर क्षेत्र के उप प्रभागीय अधिकारी 10 दिनों में जांच कर डीएम को सौपेंगे रिपोर्ट

विंढमगंज। जिलाधिकारी एस राजलिंगम ने रेनुकूट वन प्रभाग के विंढमगंज रेंज में पिछले तीन सालों के दरमियान भारी पैमाने पर हुए कनहर व मलिया नदी से हुए अवैध खनन और रेलवे दोहरीकरण सहित अन्य संस्थानों में बेचे गए बालू की जांच व अवैध खनन में ट्रैक्टर संचालकों से प्रति माह किये गए धन उगाही को लेकर वन विभाग के रेंजर व डिप्टी रेंजर के भूमिका की जांच को लेकर उच्चस्तरीय त्रिसदस्यीय टीम गठित किया है। यह जांच कमेटी डीएम को 10 दिनों के भीतर रिपोर्ट सौंपेगी।उधर जांच कमेटी गठित होते ही विंढमगंज रेंज के अधिकारियों के साथ ही साथ गुर्गों का भी हाथ पांव फूलने लगे हैं।
रेलवे दोहरीकरण सहित अन्य कंपनियों में बालू गिराने हेतु ट्रैक्टर मालिको से वन प्रभाग रेनुकूट के विंढमगंज रेंज के रेंजर व डिप्टी रेंजर द्वारा अवैध धन वसूली व वसूला गया धन मांगने पर एफआईआर कराने व जान से मारने की धमकी दिए जाने ,रेलवे दोहरीकरण में लगे ठीकेदारों की मिलीभगत से लगभग 3 वर्षो से फर्जी रॉयलिटी पेपर का इस्तेमाल कर बालू आपूर्ति किये जाने तथा उक्त फर्जी रॉयलिटी को खनन विभाग द्वारा सही साबित कराते रहने को लेकर अनूप कुमार गुप्ता निवासी फुलवार ,अशोक यादव निवासी हरनाकछार,भगवान दास गोंड निवासी जोरुखाड़ ,सिकंदर निवासी हरनाकछार ,हरिनाथ यादव निवासी केवाल ,महेंद्र गुप्ता निवासी हरनाकछार,कमलेश कुमार निवासी घिवही ,सुनील कुमार निवासी हरनाकछार ,कृष्ण कुमार निवासी जोरुखाड़ ,पंकज गुप्ता निवासी फुलवार के शपथ पत्र युक्त शिकायत पत्र 31.08.20 में अंकित शिकायतो की संयुक्त जांच हेतु विशेष कमेटी का गठन डीएम ने किया है।जारी आदेश के मुताबिक जांच टीम को यह निर्देशित किया गया है कि वे संबंधित को सुनवाई के अवसर प्रदान करते हुए
सभी तथ्यों और गहनता पूर्वक संयुक्त रुप से जांच कर रिपोर्ट सौपेंगे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!