अनियमितता में ग्राम प्रधान बर्खास्त, त्रिस्तरीय समिति गठित

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने चोपन ब्लॉक के खरौंधा ग्राम पंचायत के ग्राम प्रधान जफर हुसैन को बर्खास्त कर दिया है। उन पर चबूतरा निर्माण में अनियमितता, सड़क निर्माण में अनियमितता, पंचायत भवन के छत का मरम्मत कार्य, आवास के नाम पर पैसा मांगने का आरोप है। वहीं ग्राम पंचायत सचिव वीरेंद्र प्रताप को भी 7 अगस्त 2020 को जिला पंचायत राज अधिकारी ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

बताते चलें कि 12 मार्च 2019 को शिकायतकर्ताओं ग्राम सभा खरौंधी के ग्राम पंचायत सदस्य हजरत अली व राजमती देवी व अन्य ने जिलाधिकारी को एक शिकायती पत्र सौंप जाँच की माँग किया था।

जिस पर जिलाधिकारी ने परियोजना निदेशक, जिला ग्राम्य विकास अभिकरण एवं अधिशासी अभियंता, लघु सिंचाई को जाँच अधिकारी नामित करते हुए जाँच रिपोर्ट प्रेषित करने का निर्देश दिया था। जिसके क्रम में जाँच अधिकारियों ने प्राथमिक विद्यालय बोदार में चबूतरा निर्माण, खरौंधी मुख्य सड़क से प्रह्लाद गुप्ता के घर तक सड़क निर्माण, पंचायत भवन मरम्मत का कार्य में वित्तीय अनियमितता, आवास व प्रधानमंत्री आवास के नाम पर अवैध धन उगाही की गहरीकरण पड़ताल की। इसमें प्रथम दृष्टया ₹185715/- की वित्तीय अनियमितता पायी गयी।

जाँच रिपोर्ट मिलने के बाद आज जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने ग्राम प्रधान जफर हुसैन को उनके दायित्वों से मुक्त करते हुए ग्राम पंचायत के कार्यों के संचालन के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई है। इसमें ग्राम पंचायत सदस्य मुसाफिर, रामसूरत और संतरा देवी को नामित किया गया है। जिलाधिकारी के इस कार्रवाई से ग्राम पंचायत में हड़कंप मच गया है। वहीं जिलाधिकारी ने पूरे प्रकरण की अंतिम जाँच के लिए जिला कृषि अधिकारी को जाँच अधिकारी नियुक्त किया है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!