इस व्रत के प्रभाव से मिलती हैं सुख-सौभाग्य की प्राप्ति, जानें

भाद्रपद माह में शुक्ल पक्ष एकादशी को पद्मा एकादशी या परिवर्तिनी एकादशी या जयंती एकादशी नाम से जाना जाता है। हिंदू शास्त्रों में इस एकादशी का बहुत महत्व बताया गया है। मान्यता है कि चातुर्मास के शयन के दौरान भगवान श्री हरि विष्णु इस दिन करवट बदलते हैं। इस दिन भगवान श्री हरि विष्णु के वामन स्वरूप की पूजा की जाती है।

यह व्रत बहुत ही पावन है। इस व्रत के प्रभाव से सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। इस व्रत में कुछ सावधानी बरतनी चाहिए। एकादशी के दिन किसी भी प्रकार की दातुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस दिन चावल का सेवन करने से परहेज करना चाहिए। किसी दूसरे का दिया हुआ भोजन करने से बचें। एकादशी के दिन पान का सेवन नहीं करना चाहिए। एकादशी के दिन तामसिक भोजन न करें। अहंकार न करें। एकादशी का दिन व्रत, स्नान, दान आदि के लिए बहुत फलदायी माना गया है। इस व्रत में वामन भगवान की कथा को सुनना अनिवार्य है। इस व्रत में ऊं नमो भगवते वासुदेवाय का जाप करें। पद्मा एकादशी पर संकट में पड़े लोगों की हर संभव सहायता करें। कहा जाता है कि इस दिन माता यशोदा ने कान्हा के वस्त्र धोए थे। इसलिए इस एकादशी को जलझूलनी एकादशी भी कहा जाता है।

नोट:
इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!