बॉयोटेक किसान परियोजना का विशेषज्ञ दल ने किया निरीक्षण

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र के किसानों को वैज्ञानिक खेती करने एवं आर्थिक आत्मनिर्भर बनने पर दिया जोर

सोनभद्र । भारत सरकार के जैव प्रोद्योगिकी विभाग द्वारा वित्तपोषित एवं फॉर्ड फाउंडेशन व आई0सी0ए0आर0-आई0आई0वी0आर0 की ओर से संचालित बॉयोटेक किसान परियोजना के लिए चयनित चार आकांक्षी जिलों में से एक सोनभद्र का काशी हिंदू विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं फॉर्ड फाउंडेशन अध्यक्ष प्रो0 पंजाब सिंह के निर्देश पर फाउंडेशन के सदस्यों ने आज जमीनी स्तर पर निरीक्षण किया। इस दौरान काशी हिंदू विश्वविद्यालय के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं परियोजना के सह अन्वेषक डॉ0 संतोष कुमार सिंह, फॉर्ड फाउंडेशन के ट्रस्टी डॉ0 उमेश सिंह, काशी हिंदू विश्वविद्यालय के जन सम्पर्क अधिकारी प्रो0 राजेश सिंह, राजेश्वरी रिसर्च फाउंडेशन के सचिव डॉ0 विनोद कुमार सिंह व एफ0पी0ओ0 सोनवैली बायो एनर्जी फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी के सत्य प्रकाश देव पांडेय सहित अन्य लोगों ने किसानों से तकनीकी खेती करने एवं अपनाने पर जोर दिया। टीम ने सोनभद्र के गौरही, होना, रतवल आदि गॉवों का निरीक्षण किया व लाभान्वित किसानों से उनके समस्याओं के कारण व निवारण पर विस्तृत चर्चा की।

गौरतलब है कि इस कार्यक्रम के अंर्तगत वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं और खेतों के बीच सीधे संबंध की स्थापना पर कार्य किया जा रहा है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं बॉयोटेक किसान परियोजना के सह अन्वेषक डॉ0 संतोष कुमार सिंह ने औषधीय पौधों व उसकी उपयोगिता के विषय में जानकारी दी। उन्होंने कृषक उत्पादक संगठनों (एफ़0पी0ओ0) द्वारा किसानों का क्लस्टर बनाकर कृषि उत्पाद के निर्यात को बढ़ावा देने की बात कही।

डॉ0 संतोष कुमार सिंह ने कहा कि “बीज शोधन में इच्छुक किसानों को प्रशिक्षित किया जाएगा, जिससे उनकी आय में बृद्धि हो सके और वे आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बन सके। वहीं डॉ0 सिंह ने औषधिय खेती की संभावनाओं पर किसानों से चर्चा की ताकि किसान परंपरागत खेती के अलावां औषधीय पौधों की खेती कर बर्तमान आय के स्रोत को बढ़ा सकें।”

फॉर्ड फाउंडेशन के ट्रस्टी एवं काशी हिंदू विश्वविद्यालय के जन सम्पर्क अधिकारी प्रो0 राजेश सिंह ने कहा कि “किसानों को परंपरागत खेती करने के साथ ही इस परियोजना के माध्यम से नई तकनीक को अपनाने पर जोर देना है।”

फॉर्ड फाउंडेशन के ट्रस्टी डॉ0 उमेश सिंह ने कहा कि “इस परियोजना के माध्यम से किसानों के चहुमुखी विकास के लिए कृषि को बढ़ावा देने के साथ ही उनका स्वास्थ्य एवं उनके बच्चो की शिक्षा तथा अपने क्षेत्र में रोजगार सृजित करने पर बल देना है।”

इस अवसर पर एफपीओ सोनांचल सब्जी एवं बीज प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड के राजेश मौर्य, फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी के निदेशक एवं सोनभद्र किसान कल्याण समिति के विनोद कुमार पांडेय, यंग प्रोफेशनल मधुकर पटेल, किसान विद्यापति, राजनारायण मौर्य, उमाशंकर, बाबूलाल आदि लोग उपस्थित थे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!