राजस्व विभाग व वन विभाग की संयुक्त टीम द्वारा कराया जाये भूमि का सर्वेक्षण- मण्डलायुक्त

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)पीलीभीत । मण्डलायुक्त बरेली मण्डल बरेली रणवीर प्रसाद की अध्यक्षता में आजादी के बाद आकर बसे विस्थापित परिवारों/किसानों द्वारा ग्राम सभा व सरकारी जमीनों पर तत्समय से आवासित एवं कृषि कार्य किए जाने तथा पीलीभीत में नानक सागर डैम से विस्थापित किए गए परिवारों को पुनर्वासित करने व उक्त प्रकार के कृषकों की समस्याओं का समाधान करने के सम्बन्ध में गठित समिति की बैठक तहसील पूरनपुर कार्यालय में सम्पन्न हुई। बैठक से पूर्व मण्डलायुक्त द्वारा जनपद की तहसील पूरनपुर के ग्राम चंदिया हजारा का भ्रमण कर विस्थापित परिवारों से बातचीत कर जानकारी प्राप्त की गई। भ्रमण के दौरान मण्डलायुक्त महोदय को ग्राम प्रधान व बुर्जुग व्यक्तियों द्वारा विस्थापितो के सम्बन्ध में अवगत कराते हुये कहा कि सन् 1970 में पूर्वी पाकिस्तान से 300 परिवारों को रूद्रपुर कैम्प में व 115 परिवार को मध्य प्रदेश के माना कैम्प में शरण प्रदान किया गया था। इसके पश्चात जनपद में शरणार्थी के रूप में कुछ परिवारों को पट्टे पर जीविका संचालन हेतु भूमि प्रदान की गई थी, परन्तु पट्टा अभिलेखीकरण न होने के कारण योजनाओं का लाभ नही मिल पा रहा है।
मण्डलायुक्त द्वारा विस्थापित परिवारो से वार्ता के दौरान आश्वासन दिया गया कि प्राप्त अभिलेख व मानकों के अनुरूप वैधानिक रूप से पुर्नावसित करने की प्रक्रिया शीघ्र ही पूर्ण की जायेगी।इसके उपरान्त मण्डलायुक्त द्वारा तहसील पूरनपुर सभागार में समिति के सदस्यों के साथ पुर्नावास के सम्बन्ध प्रत्येक ग्राम से आये 02 प्रतिनिधियों से वार्ता कर उनकी समस्याओं का संज्ञान लिया गया और सभी को वैधानिक रूप से समस्या का करने हेतु आश्वासन दिया गया। बैठक दौरान मण्डलायुक्त द्वारा राजस्व विभाग व वन विभाग की संयुक्त टीम के माध्यम से सर्वेक्षण करने के सम्बन्ध दिशा निर्देश देते हुये कहा कि सर्वेक्षण के माध्यम से यह सुनिश्चित कर लिया जाये कि किस विभाग की कितनी भूमि और किस श्रेणी की और वर्तमान समय में भूमि स्थिति के सम्बन्ध में पूर्ण विवरण तैयार करते हुये आख्या प्रस्तुत की जाये। उन्होंने कहा कि विस्थापित परिवारों को पुर्नावसित करने हेतु निर्धारित मानकों के अनुरूप वैधानिक कार्यवाही करते हुये उनका अधिकार उपलब्ध कराया जायेगा। सर्वेक्षण के दौरान विस्थापित परिवारों के जो भी अभिलेख उपलब्ध है उनको आवेदन पत्र के अवश्य रूप से संलग्न करते प्राप्त करते हुये सूची तैयार की जाये और जिन लोगों के पास अभिलेख उपलब्ध नही हैं तो कहीं से उनका लिंक सम्बन्धी अभिलेख है तो वह भी अपने अभिलेख आवेदन पत्र के साथ संलग्न कर सकते हैं। बैठक के दौरान नानक सागर डैम निर्माणधीन होने पर विस्थापित किये व्यक्तियों के सम्बन्ध में समीक्षा करते हुये कहा कि राजस्व विभाग व सिंचाई विभाग द्वारा वहां वर्तमान में खाली पड़ी भूमि का सर्वे कराया जायेे और यह निश्चित किया जाये कि वह अवशेष भूमि की वर्तमान स्थिति में किस प्रकार की है।
बैठक में जिलाधिकारी द्वारा उप जिलाधिकारी कलीनगर व उप जिलाधिकारी सदर को सर्वेक्षण कार्य तत्काल कराने के निर्देश दिये गये तथा शीघ्र ही सूची तैयार कर उपलब्ध कराने सम्बन्धी दिशा निर्देश दिये गये, उप जिलाधिकारी कलीनगर व पूरनपुर द्वारा सर्वेक्षण का जो भी कार्य किया गया है उसके अन्तर्गत विस्थापितो के आवागमन के समय जो भी अभिलेख उपलब्ध है उनको भी प्राप्त करने हेतु निर्देशित किया गया।
भ्रमण के दौरान जिलाधिकारी पुलकित खरे, मुख्य वन संरक्षक बरेली जोन, अधीक्षण अभियन्ता सिंचाई खण्ड बरेली, डीएफओ खीरी, डीएफओ टाइगर रिजर्व नवीन खण्डेवाल, अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) देवेन्द्र प्रताप मिश्र, एसओसी चकबन्दी पीलीभीत, अधिशासी अभियन्ता सिंचाई, उप जिलाधिकारी कलीनगर, उप जिलाधिकारी पूरनपुर, उप जिलाधिकारी सदर, उप जिलाधिकारी अमरिया सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!