कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया, अजय कुमार लल्लू सहित अन्य नेताओं को सर्किट हाउस में किया लॉक

आजमगढ़

० मुख्य गेट पर ताला लगाया गया, बाहर और अंदर भारी फ़ोर्स तैनात

० कांग्रेसी कार्यकर्ता सर्किट हाउस के बाहर व कांग्रेसी नेता सर्किट हाउस के मुख्य गेट के अंदर धरने पर बैठ जमकर कर रहे नारेबाजी

० एक हफ्ता पूर्व तरवां के पास गांव में दलित प्रधान की गोली मारकर हत्या के मामले में गांव घर जाकर परिजनों से मुलाकात करने के लिए आए थे कांग्रेसी नेतागण।

० कांग्रेसी नेता गण ने पूरे प्रदेश में कानून व्यवस्था छिन्न-भिन्न होने व जंगलराज होने का लगाया आरोप, कहा दलितों का हो रहा उत्पीड़न

आजमगढ़ । तरवां थाना क्षेत्र के बांस गांव जाने की तैयारी में जुटे कांग्रेस नेता सर्किट हाउस से बाहर नहीं निकल पा रहे। प्रशासन ने सर्किट हाउस के गेट पर सुबह भी भारी फोर्स तैनात कर दिया, जिसके किसी के अंदर एवं बाहर जाना मुश्किल हो गया। यहां तक की कांग्रेस के जिलाध्यक्ष प्रवीण कुमार सिंह को भी एंट्री नहीं मिल सकी है। हालांकि, कांग्रेस नेताओं से एडीएम प्रशासन एवं एएसपी की वार्ता चल रही, जिसके बाद ही प्रतिनिधिमंडल के वहां जाने को लेकर स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

बांस गांव के ग्राम सत्यमेव जयते की बीते दिनों गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उसके बाद मचे बवाल में एक एक बालक की कुचलकर मौत हो गई थी। दो मौतों के बाद बवाल मचा तो कई गाड़ियां फूंक दी गई, ईंट-पत्थर चल गए थे। उसी मामले में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, राज्य सभा सदस्य पीएल पूनिया, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बुजलाल खाबरी (अनुसूचित प्रकोष्ठ) प्रदीप नरवाल कोआर्डिनेटर उत्तर प्रदेश, आलोक प्रसाद प्रदेश अध्यक्ष (अनुसूचित प्रकोष्ठ), आरके चौधरी पूर्व मंत्री एवं महाराष्ट्र प्रांत के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत एक प्रतिनिधिमंडल के रूप में पीड़ितों के गांव एवं घर जाकर उन्हें शांत्वना देना चाहते थे। इसी को लेकर प्रशासन से उनकी ठन गई है। पहले से अलर्ट एडीएम प्रशासन नरेंद्र सिंह ने बुधवार देर रात एक आदेश जारी कर वहां जाने पर पाबंदी लगा दी। इसके पीछे प्रशासन ने शान्ति व्यवस्था के बिगड़ने के हवाला दिया है। मजिस्ट्रेट, पुलिस एवं अभिसूचना इकाई की रिपोर्ट को आधार बनाते हुए प्रशासन ने अपनी बात रखी थी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!