केंद्रों से खाद वितरित नहीं किये जाने से आक्रोशित किसानों ने किया प्रदर्शन

धर्मेन्द्र गुप्ता (संवाददाता)

विंढमगंज । स्थानीय इलाके में सरकार की मंशा के अनुरूप किसानों को खेती के लिए खाद उपलब्ध कराने हेतु कई केंद्र स्थापित किए गए,जहां बीते लगभग एक पखवारा से यूरिया खाद केंद्रों पर नहीं होने के वजह से किसान काफी चिंतित व मायूस है। कल सोमवार को महुली व मेदनीखाड़ लैंपस पर कुछ यूरिया खाद की बोरियां आई थी जिस की खबर लगते ही आज मेदनीखाड पर यूरिया खाद लेने के लिए सुबह से ही किसानों की लंबी लाइन लगी हुई थी लेकिन इन लैंमप्स पर खाद का वितरण आज नहीं हुआ जिससे किसानों में काफी आक्रोश है। किसानों का कहना था कि वह हर दिन खाद के लिए लैमप्स का चक्कर काटते हैं लेकिन उन्हें खाद नहीं मिल पा रहा है। राजकुमार किसान ने बताया कि खाद नहीं मिलने के कारण फसल का नुकसान हो रहा है ।मार्केट में भी ऊंचे दाम पर खाद मिल रही है। हर तरफ से किसानों का ही शोषण हो रहा है ।किसान महेश यादव ने आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि इस मेदनिखाड़ लैंपस पर आए दिन खाद की कालाबाजारी की जाती है तथा लैंपस से सटे हुए एक मकान से ऊंचे दामों पर खाद की बिक्री की जाती है तथा लैंपस में खाद नहीं होना बताया जाता है जो किसानों के लिए काफी चिंता का विषय है। किसान लालमन यादव ने कहा कि जहां सरकार किसानों की खेती को बढ़ावा देने के लिए सरकारी केंद्रों से खाद व बीज मुहैया कराने का हर संभव प्रयास कर रही है वहीं इन केंद्रों के कर्मचारियों के द्वारा आए दिन किसानों का शोषण किया जाना इस ग्रामीण क्षेत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है। मेदनीखाड़ लैंपस के अध्यक्ष नारायण ने सेल फोन पर बताया कि मात्र 350 बोरी ही यूरिया खाद आई है ।यूरिया खाद लेने वाले किसान की लंबी लाइन लगी हुई है। खाद बांटने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है इसके परिपेक्ष में आज थाने को अवगत कराया गया है। अगर थाने से सुरक्षा की व्यवस्था मिलती है तो कल खाद का वितरण कराया जाएगा। प्रदर्शन व आक्रोशित किसानों में श्याम बिहारी यादव, उमाशंकर यादव, महेंद्र यादव, सीताराम यादव, गौरी शंकर कुशवाहा, इंद्रदेव कुशवाहा, महेश कुशवाहा, रामदास कुशवाहा, वीरेंद्र कुमार, प्रेम कुमार यादव, उमेश कुमार, श्याम कुमार, राजू प्रसाद सहित सैकड़ों किसान मौजूद थे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!