गौतम बुद्ध को लेकर विदेश मंत्री जय शंकर प्रसाद की टिप्पणी पर विवाद, नेपाल ने बयान पर जताया एतराज

नेपाल के विदेश मंत्रालय ने भारत के विदेश मंत्री जयशंकर के जरिए गौतम बुद्ध पर की गई टिप्पणी पर ऐतराज जताया है । नेपाल का कहना है कि गौतम बुद्ध पर मामला संदेह और विवाद से परे है और इस तरह बहस का विषय नहीं हो सकता है । पीएम मोदी भी कह चुके हैं कि बुद्ध का जन्म नेपाल में हुआ था ।हालांकि इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने अपने रुख को स्पष्ट करते हुए कहा है कि बुद्ध साझा विरासत का हिस्सा हैं, नेपाल में पैदा हुए थे । विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि गौतम बुद्ध का जन्म लुम्बिनी में हुआ था, जो नेपाल में है ।

क्या कहा था विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने

सीआईआई के कार्यक्रम में जयशंकर ने भारत की विदेश नीति के बारे में कहा था कि देश उचित एवं समानता वाली दुनिया के लिए प्रयास करेगा क्योंकि अंतरराष्ट्रीय नियमों और मानकों की वकालत नहीं करने से ”जंगल राज” हो सकता है । उन्होंने कहा था कि अगर हम कानून एवं मानकों पर आधारित विश्व की वकालत नहीं करेंगे तो निश्चित रूप से “जंगल का कानून” होगा। विदेश मंत्री ने कहा था कि दो “सबसे महान भारतीय” भगवान बुद्ध और महात्मा गांधी के संदेशों को अब भी पूरी दुनिया में मान्यता मिलती है।

भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर के इस बयान के बाद नेपाल में हंगामा मच गया था । नेपाल की मुख्य विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस सहित कई राजनीतिक दलों ने देश के कई हिस्सों में प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था । नेपाल विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने 2014 के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेपाल दौरे का भी जिक्र किया, जिसमें उन्होंने नेपाल की संसद को संबोधित करते हुए कहा था कि नेपाल वह देश है, जहां दुनिया के शांति के दूत बुद्ध ने जन्म लिया था।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!