गाजियाबाद पत्रकार हत्याकांड से पत्रकारों में रोष, भारतीय मीडिया फाउंडेशन ने जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या से पत्रकारों में रोष

भारतीय मीडिया फाउंडेशन ने डीएम को ज्ञापन सौंप कर किया पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की माँग

वर्चुअल मीटिंग कर भारतीय मीडिया फाउंडेशन ने दिया दिवांगत पत्रकार को श्रद्धांजलि

सोनभद्र । गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या के मामले में आज भारतीय मीडिया फाउंडेशन सोनभद्र की टीम ने एक वर्चुअल मीटिंग की और दिवंगत पत्रकार साथी को श्रद्धाजंलि अर्पित की। तत्पश्चात मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंप पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की माँग की।

वर्चुअल मीटिंग के दौरान वरिष्ठ पत्रकार सतीश भाटिया ने कहा कि पत्रकार को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ जरूर माना गया है लेकिन उसे वह सुविधा व दर्जा नहीं मिल सका जो लोकतंत्र के बाकी तीन स्तंभ को दिया गया है। उन्होने सरकार से मांग की है कि पत्रकारों के हित को ध्यान में रखकर उसे सुरक्षा के अलावा बाकी सुविधा भी मुहैया कराई जाए ।

भारतीय मीडिया फाउंडेशन के जिलाध्यक्ष व वरिष्ठ पत्रकार शान्तनु बिश्वास ने कहा कि “जिस तरीके से गोली मार कर हत्या की गई वह न सिर्फ निंदनीय है बल्कि पत्रकार की सुरक्षा को लेकर भी सवाल खड़ा होता है । उन्होंने कहा कि आये दिन पत्रकारों पर हो रहे हमले से पत्रकार खुद को असुरक्षित महसूस कर रहा है, चाहे गाजियाबाद की घटना हो या उन्नाव या फिर चंदौली में पत्रकार पर हमले की घटना । उन्होंने सरकार से पत्रकार सुरक्षा की मांग की है । वहीं अन्य पत्रकार साथी भी सुरक्षा की मांग करते हुए हर पत्रकार के नाम से बीमा कराए जाने की मांग उठाई।”

वरिष्ठ पत्रकार विधु शेखर मिश्रा ने कहा कि “पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने की जरूरत है और स्व0 जोशी जी के परिवार को सुरक्षा मुहैया कराया जाय। इसके साथ ही स्व0 जोशी की हत्या में जितने लोग भी दोषी हैं उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही हो।”

वरिष्ठ पत्रकार जितेंद्र गुप्ता ने कहा कि “जब दिवंगत पत्रकार ने पूर्व में सूचित किया था तो पहले से सज्ञान क्यों नहीं लिया गया । उन्होंने इस पूरे मामले में दोषी अधिकारियों के खिलाफ भी कड़ी कार्यवाही की मांग की है।”

वहीं वरिष्ठ पत्रकार अनूप श्रीवास्तव ने कहा कि “अक्सर देखा गया है कि घटना के बाद सुरक्षा की बात की जाती है, इसलिए पत्रकारों को पहले ही सुरक्षा मुहैया की जाय।”

वर्चुअल मीटिंग के दौरान अरुण चौबे, मनोज चौबे, पीयूष त्रिपाठी, देवेश मोहन, विवेक श्रीवास्तव, विनोद धर, विकास द्विवेदी, रमेश यादव, आनन्द कुमार चौबे, संतोष जायसवाल, घनश्याम पांडेय, संजय केसरी, कृपा शंकर पांडेय, देवी प्रसाद, हनीफ खान, जयनाथ मौर्या, शिव कुमार पांडेय, मनोज वर्मा, नवल बाजपेयी, मुमताज खान आदि उपस्थित थे।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!