नेटवर्क नही है,असुविधा के लिए खेद है

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही (ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर । ये मामला है दिलदारनगर बैंक ऑफ बड़ौदा का कई दिन से उपभोक्ता आ रहे हैं और बाहर लगी हुई इस सूचना को पढ़ रहे हैं,पूरे दिन नेटवर्क आने का इंतेज़ार कर रहे हैं और फिर मायूस होकर चले जा रहे हैं। किसी भी बैंक कर्मचारी की कोई ज़िम्मेदारी नही के आखिर इसका निस्तारण कैसे होगा। बैंक ने तो अपना कर्तव्य पूरा कर दिया ये खबर देकर के नेटवर्क नही है,असुविधा के लिए खेद है।अब आगे उपभोक्ता समझे के उनको क्या करना है।उस तरह की लापरवाही बहुत से लोगों के लिए मुश्किलें खड़ी कर रहा है। एहतेशाम खान ने बताया कि मैं पिछले तीन दिनों से आ रहा हूँ और रोज़ यही सूचना पढ़कर कई घंटे के इंतेज़ार के बाद आखिर मायूस होकर अपने घर लौट जा रहा हूं। कोई सुनने वाला नही यहां पर।अब तो उपभोक्ताओं के पास सिवाए इंतेज़ार करने के सिवा कुछ भी नही।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!