आर्थिक एवं औद्योगिक नीतियों के विरोध में बिजली कर्मचारी संघ (एटक) का प्रदर्शन

कृपा शंकर पांडेय (संवाददाता)

ओबरा । भारत सरकार के आर्थिक एवं औद्योगिक नीतियों के विरोध एवं मुनाफा कमाने वाले सरकारी उद्योगो को निजी सेल को सौपने से बढ रही बेरोजगारी एवं महंगाई के विरोध में समस्त महासंघो द्वारा 3 जुलाई 2020 को राष्ट्रव्यापी आंदोलन की कड़ी में उत्तर प्रदेश बिजली कर्मचारी संघ (एटक) द्वारा झरिया नाला गेट ओबरा परियोजना पर धरना आंदोलन में सोशल डिस्टेंसिग का पालन करते हुए मास्क पहनकर सैकड़ों तादात में सभी तबके के कर्मचारियो ने भाग लिया । आंदोलन के बारे में अजय कुमार सिंह ने भारत सरकार का ध्यान आकृष्ट करते हुए बताया कि हमें आपसे इतिहास से सबक लेना चाहिए क्योंकि जब भी विदेशियों अंग्रेजों मुगलों ने इस देश को गुलाम बनाया उसमे हमारे देश के शासको के व्यक्तिगत कमजोरियों का काम उठाया और देश को कई बार लूटा ही नहीं बल्कि देशवासियों को गुलाम भी बनाया ।वही पुरानी गलती वर्तमान शासक भी करके बहुराष्ट्रीय कंपनियों के देश की मुनाफा कमाने वाले उद्योग जैसे तेल गैस बिजली कोयला बैंक इंश्योरेंस परिवहन शिक्षा एवं चिकित्सा जैसे उद्योग को सौप कर देश की आर्थिक व्यवस्था को ही चौपट कर रही है । साथ-साथ देश के नौजवानों के हाथों से रोजगार भी छीना जा रहा है ।

धरने की अध्यक्षता क्षेत्रीय अध्यक्ष पशुपति विश्वकर्मा, संचालन क्षे०मंत्री योगेंद्र प्रसाद ने किया । सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक धरना आंदोलन का कार्यक्रम चला । उसके बाद प्रतिनिधि मंडल मुख्य महाप्रबंधक को ज्ञापन सौंपा गया ।

धरने में सर्व योगेंन्द्र प्रसाद दुबे, चन्द्रकान्त पुष्कर सिंह संजय शर्मा प्रभात पाण्डेय गुलाम अहमद दुर्गावती अनुराधा सिंह प्रशांत द्विवेदी मधुकांन्त शदव बानीव्रत बनर्जी आनंन्द लालता तिवारी बिगाऊगुप्ता पंकज सिंह धर्मेंद्र शर्मा रामचंद्र सहित सैकड़ों कर्मचारी अधिकारी उपस्थित रहे


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!