वामा सारथी के अध्यक्ष की अनोखी पहल : SMS को रखें याद, करेगा कोरोना से बचाव

आनन्द कुमार चौबे/अंशु खत्री (संवाददाता)– वामा सारथी के अध्यक्ष डॉ0 आकांक्षा गुप्ता ने चुर्क में चलाया जागरूकता अभियान– वामा सारथी की पूरी टीम के साथ चुर्क बाजार में दुकानदारों को बताया SMS का मतलब– लोगों को हाथ धोने के बताए तरीक़े– दुकानदारों को बांटा मास्क व सेनेटाइजर– पुलिस अधीक्षक की पत्नी व जिला अस्पताल में महिला चिकित्सक हैं डॉ0 आकांक्षा गुप्तासोनभद्र । सोशल मीडिया के दौर में आज हर कोई SMS से रूबरू है और SMS करना जानता है। अभी तक लोग अपनी बातों को दूसरों तक SMS के माध्यम से पहुंचाते थे मगर अब सोनभद्र में पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव की पत्नी व यूपी पुलिस फैमिली वेलफेयर एसोसिएशन वामा सारथी की अध्यक्षा डॉ0 आकांक्षा गुप्ता SMS के माध्यम से लोगों को कोरोना वायरस से बचने का उपाय बता रही हैं।पेशे से जिला अस्पताल में महिला चिकित्सक के रूप में अपनी सेवा देने वाली डॉ0 आकांक्षा गुप्ता खुद पूरी टीम के साथ नगर में घूम-घूम कर लोगों को कोरोना जैसी महामारी से बचने के लिए SMS को याद रखने के लिए बता रही हैं। डॉ0 आकांक्षा गुप्ता का कहना है कि SMS का मतलब है S से सेनेटाइजर…. M से मास्क….S से सोशल डिस्टेंसिंग। कोरोना वायरस से आज पूरा विश्व लड़ रहा है। जिस तरह से यह वायरस तेजी से फैल रहा है, सभी के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। वायरस का कोई भी वैक्सीन न बनने से खुद की और दूसरों की सुरक्षा ही एक मात्र उपाय है। यूँ तो कोविड-19 जैसी महामारी से बचने के लिए लोग अलग-अलग तरीके से लोगों को जागरूक कर रहे हैं।
वहीं वामा सारथी की अध्यक्ष डॉ0 आकांक्षा गुप्ता ने कोरोना से बचने के लिए एक नया तरीका इजात किया है SMS। डॉ0 आकांक्षा लोगों को SMS के माध्यम से लोगों को जागरूक कर रही हैं। वे सोनभद्र के चुर्क बाजार में अपनी पूरी वामा सारथी टीम के साथ जाकर लोगों को SMS शब्द के बारे में बता रही हैं और लोगों को SMS के मतलब को भी समझा रही हैं कि S का मतलब है सेनेटाइजर…. M का मतलब है मास्क….और S का मतलब है….सोशल डिस्टेंसिंग।इतना ही नहीं डॉ0 आकांक्षा गुप्ता के अतरिक्त पूरी टीम लोगों को हाथ धोने के तरीके व फेस मास्क लगाने के तरीके भी बताए साथ ही लोगों को कैसे दूरी बनाकर रहना है और कैसे खुद को कोविड-19 से बचाना है, सभी तरीके बताए गए।इस संबंध में यूपी पुलिस परिवार वेलफेयर एसोसिएशन वामा सारथी की अध्यक्षा डॉ0 आकांक्षा गुप्ता का कहना है कि “आज SMS शब्द को हर कोई जानता है और आसानी से लोगों को याद भी रहता है, इसी उद्देश्य से इस शब्द का इश्तेमाल किया गया। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन-5 में मिले राहत की वजह से आज सड़क पर लोगों की भीड़ देखने को मिलेगा। कई दिनों से घरों में बंद लोग आवश्यक सामान को लाने घरों से बाहर आएंगे। जिन दुकानों को खोलने के आदेश जारी किए गये है उन दुकानों पर भीड़ देखने को मिलेगी लेकिन अब लोगों का फर्ज बनता है कि वह घर से निकलते वक्त SMS यानी S का मतलब है सेनेटाइजर…. M का मतलब है मास्क….और S का मतलब है….सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखे और यदि आपको कोरोना वायरस का कोई लक्षण महसूस हो तो जिला अस्पताल में जाकर जांच कराएँ।”

परिंदों को नहीं दी जाती तालीम उड़ानों की, वो खुद ही तय करते हैं मंजिल आसमानों की। जी हां यदि हौसला है तो कोई भी काम कठिन नहीं होता । निश्चित तौर पर जिस तरह से डॉ0 आकांक्षा समाजसेवा करते हुए लोगों को जागरूक कर रही हैं यह कोरोना जैसी महामारी से बचने में काफी मददगार साबित होगा।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!