महिलाएं सोलर स्मार्ट शॉप चलाकर बनी आत्म निर्भर- शैलेन्द्र द्विवेदी

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । समूह की महिलाएं सोलर लैम्प की स्टडी सोलर लैम्प की असेंबली ,डिस्ट्रिब्यूशन ,रिपेयरिंग , सोलर स्मार्ट शॉप के तहत कार्य करके आत्म निर्भर बन रही है । यह योजना नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा लागू की गई है तथा जमीनी स्तर पर ये योजना में आईआईटी बॉम्बे, ईईएसएल, उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के संयुक्त तत्वधान में चल रही है। उक्त बातें उत्तर प्रदेश राज्य के वरिष्ठ परियोजना प्रबन्धक शैलेन्द्र द्विवेदी ने कही।

उन्होंने बताया कि जनपद सोनभद्र के ब्लॉक-चोपन और दुद्धी में 70 हजार बच्चों कोसोलर लैम्प कक्षा 1 से 12 तक के ग्रामीण बच्चों को स्टडी सोलर लैम्प दिया गया है ।ये लैम्प की कीमत 700 रुपये है लेकिन सरकार सब्सिटी पर केवल बच्चों को 100 रुपये में दिया। और इससे महिलाओं को रोजागर भी मिला है । इससे एक कदम आगे बढ़ते हुए इन लैम्पों का 1 साल तक मुफ्त मरम्मत एवं रखरखाव किया जाता है तथा महिलाओं की यात्रा यहीं खत्म नही होती है इसी का अनुभव के आधार पर सौर उद्यमी के अंतर्गत समूह की 15 महिलाओं ने सोलर स्मार्ट शॉप भी खोली है। इन समूह की महिलाओं के द्वारा सोलर स्मार्ट शॉप चलाई जा रही है।जिससे ये महिलाएं प्रत्येक महीने करीब 8000 रुपये से 10000 रुपये तक कमा रही है।ये महिलाएं विभिन्न तरह की सेवाएं प्रदान करती हैं जैसे कि सौर उत्पाद सोलर से सम्बंधित सभी प्रोडक्ट सोलर टॉर्च, सोलर लालटेन, होम लाइटिंग सिस्टम, सोलर पावर बैंक, सोलर पंखा, टेबल लैम्प, सोलर के खिलौने, पैनल आदि की बिक्री करती है तथा इनकी रिपेयरिंग का भी कार्य कर रही है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!