पहले प्रशासन का भय अब महामारी का

* बढ़ते संक्रमण से बढ़ रहा संकट।
* फिर भी लोग हैं बेपरवाह।
* जुर्माना मंजूर लेकिन मुखावरण नहीं।

मनोहर कुमार (संवाददाता)

मुग़लसराय। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच लोगों की लापरवाही बढ़ गई है।कोरोना वायरस के शुरुआती दौर में इसके फैलाव व बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए किए गए लॉक डाउन में लोगों को प्रशासन का भय था। लॉक डाउन खुला तो लोगों में महामारी का भय सताने लगा है। धान के कटोरे के रुप में विख्यात चन्दौली में ही कोरोना संक्रमित केस की संख्या 119 तक पहुंच गई है।किसी को क्वारन्टीन किया गया है तो कहीं हॉट स्पॉट घोषित कर सील कर दिया गई। प्रशासन लोगों को मुखावरण लगाने के जागरूक करने के साथ जुर्माना भी लगा रहा है। लेकिन लोग जुर्माना भरने को तैयार है मुखावरण नहीं।
कोरोना वायरस संक्रमण व प्रसार के रोकथाम के लिए निर्धारित नियमों एवं दिये गये आदेशों-निर्देशों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध चन्दौली पुलिस ने गुरुवार को कार्रवाई करते हुए सार्वजनिक स्थलों पर मुखावरण (मास्क/गमछा) न पहनने अथवा सार्वजनिक स्थलों पर थूकने आदि से सम्बन्धित कुल 212 व्यक्तियों के विरुद्ध कार्यवाही करते हुए 21200 रुपएजुर्माना वसूला। भारत सहित विश्व के अधिकांश देशों में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। विश्व में संक्रमितों की संख्या एक करोड़ की ओर बढ़ रही है।जबकि भारत में पांच लाख की ओर है।अब तक भारत में चार लाख नवासी हजार केस हो गए हैं।धान कटोरे के रूप में विख्यात चंदौली में 119 केस हो गए हैं। कोरोना संक्रमण के फैलाव व प्रभाव को रोकने के लिए किए गए लॉक डाउन के दो फेजों में लोगों को प्रशासन का भय कायम रहा।जैसे जैसे अनलॉक की ओर कदम बढ़े कोरोना ने अपनी चाल तेज कर दी। अब लोगों महामारी का भय सता रहा है।इसके बावजूद लोग सतर्क नहीं हैं दो गज की दूरी का मानक गायब है।लोग मास्क नहीं लगा रहे हैं। सब कुछ सामान्य तरीके से चल रहा है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!