पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढोतरी को लेकर प्रर्दशन

विनोद कुमार (संवाददाता)

इलिया। पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों को वापस लाने के लिए के लिए भाकपा (माले) के नेतृत्व में गांव गांव चल रहे धरना प्रर्दशन के क्रम में शनिवार को उसरी गांव में शहीदे आजम भगत सिंह पंचायत भवन पर मोदी सरकार मुर्दाबाद,पेट्रोल-डीजल का दाम रुपया 80 के पार क्यों मोदी सरकार जवाब दो,नारे के साथ पुतला दहन किया गया। सभा को संबोधित करते हुए भाकपा (माले) जिला सचिव कामरेड अनिल पासवान ने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें 2014 मई की कीमतों से एक तिहाई कम हुई हैं। पर मोदी सरकार के आने के बाद पैट्रोल डीजल की कीमतों में आज 69 प्रतिशत तक टैक्स और सेस लगा है। कीमतों में लगभग 58 रुपया सरकारी टैक्स और विभिन्न सेस हैं। इसके साथ ही कंपनियों द्वारा रोजाना की जा रही मनमानी बढ़ोतरी पर किसी तरह की रोक-टोक नहीं है। यह मोदी सरकार द्वारा जनता की जेब में डाला जा रहा खुला डाका है।भाकपा (माले) जिला सचिव ने कहा कि मोदी सरकार ने एक देश एक टैक्स के नाम पर लाए गए जीएसटी के दायरे से इसी लिए पैट्रोलियम पदार्थों और शराब को बाहर रखा था, ताकि सरकार सबसे ज्यादा बिकने वाले पैट्रोलियम पदार्थों और शराब से मनमाना टैक्स वसूल सके। अगर अभी पैट्रोलियम पदार्थों को जीएसटी के दायरे में लाया जाए और कोई अन्य सेस न लगाया जाए तो आज अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की गिरी कीमतों के हिसाब से देश में पेट्रोल की कीमत 25 रुपए प्रति लीटर के आसपास होंगी।
पुतला दहन कार्यक्रम में अखिल भारतीय किसान महासभा के जिला समिति सदस्य कामरेड रामकिशुन पाल,ब्लॉक संयोजक समिति सदस्य कामरेड श्याम लाल पाल,मंजू देवी,कलावती देवी,सहित तमाम लोग शामिल हुए|


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!