सामने आया पुलिस का मानवीय चेहरा, भटके किशोर को परिजनों से मिलाया

राजेश गुप्ता (संवाददाता)

पीलीभीत । कोरोना काल में डॉक्टर के बाद पुलिस का कार्य खूब सराहा गया । यूं तो ख़ाकी पर अक्सर लोगों का गुस्सा फूटता रहता है लेकिन कोरोना वायरस जैसे महामारी में पुलिस की छवि में काफी सुधार हुआ है और लोगों का नजरिया भी बदला है ।

आज एक बार फिर पुलिस का एक मानवता से भरा चेहरा सामने आया । दरअसल कोतवाली जहानाबाद पुलिस ने 2 माह से अपने घर से बिछड़े एक किशोर को उसके मां-बाप से मिलाने में अहम रोल अदा किया। 15 वर्षीय बालक के परिजनों को बुलाकर सौंप दिया ।

प्रभारी निरीक्षक हरीश वर्धन सिंह ने बताया कि डायल 112 पुलिस में तैनात कॉन्स्टेबल रूपेश कुमार ने थाने के बाहर घूम रहे एक संदिग्ध लड़के को बुलाकर पूछताछ शुरू किया तो उसने बताया कि उसका नाम आदिल है और उसके पिता का नाम हारून है । वह यूपी के बागपत का रहने वाला है। तथा अपने घर से लगभग 2 माह से बिछड़ गया । आदिल के द्वारा दी गई जानकारी के बाद कोतवाली पुलिस तत्काल एक्टिव हो गयी और उन्होंने आदिल के परिजनों से संपर्क साधते हुए परिजनों को थाना जहानाबाद बुलाया और उनके बेटे को उनके परिजनों के हवाले कर दिया । आदिल के मिल जाने से परिजनों ने राहत की सांस लेते हुए कोतवाली जहानाबाद पुलिस का आभार व्यक्त किया।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!