दिल्ली के अस्पतालों को अब मरीजों को नई डिस्चार्ज नीति के तहत देनी होगी छुट्टी, मरीजों को मिलेगा डिस्चार्ज प्रमाणपत्र

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मोर्चा संभाल चुके केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ताबड़तोड़ फैसले ले रहे हैं। आज वह खुद शाम चार बजे लोक नायक जय प्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल का दौरा किया। यहां उन्होंने डॉक्टरों के साथ बैठक की और नई डिस्चार्ज पॉलिसी को भी लागू किया गया।

दिल्ली के अस्पतालों को अब मरीजों को नई डिस्चार्ज नीति के तहत छुट्टी देनी होगी। अस्पताल हल्के लक्षण वाले मरीजों को या थोड़ा ठीक होने पर 7 से 10 दिनों में छुट्टी दे देगा। साथ ही कहा गया है कि मरीज को छुट्टी मिलने के बाद कॉलोनी में कोई भेदभाव न करे। इसके लिए अस्पताल प्रमाण पत्र देंगे कि मरीज ठीक हो चुका है और इनसे भेदभाव न करें। दिल्ली के सभी अस्पताल मरीजों को छुट्टी देने के बाद यह प्रमाण पत्र देंगे। एलएजेपी के निदेशक डॉक्टर सुरेश कुमार ने यह जानकारी दी।

बैठक के दौरान गृह मंत्री ने अस्पतालों से कुल बेड, आईसीयू बेड, एचडीयू, ऑक्सीजन बेड, वेंटिलेटर और कुल मरीज की जानकारी मांगी है। उन्होंने इमरजेंसी वार्ड का भी दौरा किया। अमित शाह ने डॉक्टरों और नर्सों से बातचीत की और उन्हें मोटिवेट किया कि उनके सहयोग बेहद महत्वपूर्ण हैं। इसके बाद स्वस्थ्यकर्मियों ने भी खुशी जाहिर की। इस दौरान एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया भी उनके साथ थे।

दिल्ली में कोरोना संक्रमण की बेकाबू स्थिति को संभालने की कमान अमित शाह ने पूरी तरह अपनी निगरानी में ले ली है और राजनीतिक दलों के साथ सर्वदलीय बैठक करने के बाद वह इंतजामों का जायजा लेने सोमवार को एलएनजेपी पहुंच थे। दिल्ली सरकार ने एलएनजेपी को विशेष रूप से कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिये चिह्नित किया है। अस्पताल में बदइंतजामी को लेकर हाल में मीडिया में दिल दहलाने वाली कई रिपोर्ट आई थीं।

शाह ने कोरोना वायरस के उपचार से जुड़े इंतजामों का जायजा लेने के लिए एलएनजेपी अस्पताल पहुंचे और वहां बैठक कर पूरी स्थिति का जायजा लिया। गृहमंत्री ने अस्पताल में प्रबंधों का जायजा लिया। उन्होंने डाक्टरों और अन्य कर्मचारियों से पूरी स्थिति की जानकारी ली। रविवार को दिल्ली सरकार और बाद में तीन निगमों के महापौरों के साथ बैठक की थी।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!