मजदूरी का भुगतान नहीं होने से मनरेगा मजदूरों के समक्ष उत्पन्न हुई आर्थिक तंगी

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । विकास खंड पटेहरा में मनरेगा के तहत कराए जा रहे कार्यों का भुगतान नहीं होने से श्रमिकों के समक्ष आर्थिक तंगी उत्पन्न हो गई है। लॉकडाउन के बाद अनलॉक-1 में तमाम शादियां होनी है। इसके लिए श्रमिकों को मनरेगा में काम के बदले धन का ही सहारा था। श्रमिक सोचे थे कि ग्राम पंचायत में मनरेगा से काम कर अपनी आर्थिक तंगी सुधार लेंगे। बरसात के लिए भी घर-मकान सुधार लेंगे कितु भुगतान अटक जाने से महीनों बाद भी खाते में धन नहीं आने से श्रमिकों की बेचैनी बढ़ गई है। श्रमिकों की माने तो 15 दिन काम करके 20 दिन से बैंक पर दिन भर लाइन लगाना पड़ रहा है। आरोप है कि बैंककर्मी पासबुक उठाकर फेंक देते हैं। श्रमिक ब्लाक का चक्कर लगाकर थक चुके हैं। गढ़वा, पटेहरा, लालपुर, देवरी, दुबार खास के श्रमिकों ने बीडीओ से श्रम के भुगतान की मांग की। ग्राम पंचायत में फर्जी भुगतान होने तथा असली भुगतान नहीं होने का आरोप लगाया। बीडीओ पटेहरा दिनेश कुमार मिश्र ने बताया कि ब्लाक स्तर से किसी का भुगतान बाकी नहीं है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!