महिला मरीज पर भड़के चिकित्साधिकारी, वीडियो वायरल

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मड़िहान पर एक बीमार महिला इलाज करवाने आज पर्ची लेकर डॉक्टर के पास पहुंची ही थी कि डॉक्टर साहब इस कदर महिला पर इस कदर आग बबूला हो गए कि महिला मरीज पर झल्लाते हुए उसे खूब भला बुरा कहने लगे और उसे अस्पताल परिसर से बाहर निकाल दिया। महिला से कुछ पूछे बगैर डॉक्टर का गुस्सा सातवें आसमान पर था, महिला मरीज की गलती बस इतनी थी की कि सरकारी अस्पताल के भवन में पैर रख दी थी। जहां पर डॉक्टर कुशल व्यवहार और मरीजों के प्रति मृदुभाषी होते हैं वहीं दूसरी ओर यहां पर तैनात डाक्टर का व्यवहार मरीजों के प्रति उदासीन है।
डॉक्टर पर आरोप लगाते हुए क्षेत्र के संजय, नरेंद्र, मालती, कमलेश, पिटू आदि लोगों ने बताया कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के नाते दूर-दूर से ग्रामीण क्षेत्र के मरीज इलाज करवाने के लिए आते हैं। सरकार द्वारा लाखों रुपये खर्च किया जाता है, जिससे जनता का निःशुल्क उपचार किया जाए परंतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का हाल तो कुछ ऐसा है कि पीड़ित महिला हीरावती पत्नी लालजी निवासी बंदेईया अधीक्षक के इस व्यवहार से विक्षिप्त होकर सरकार को कोसते हुए बिना इलाज कराए ही घर को वापस चली गई। यहां पर तैनात अधीक्षक ही नहीं बल्कि अन्य कर्मचारियों का भी व्यवहार मरीजों के प्रति ऐसा है कि मानों उनके रोग ठीक होने के बजाय उनके दिल पर इस तरह की कड़वी बातें आघात करती हैं। वहां मौजूद एक पत्रकार ने इसका विरोध किया तो अधीक्षक की धमकी और भी बुलंद हो गई उन्होंने कहा कि अभी पुलिस बुलाता हूं रुकिए यहां पर तैनात अधीक्षक खुद को इतना प्रभावशाली मानते हैं कि उनके आगे पत्रकारों की भी कोई हिमाकत नहीं है। अस्पताल में यह घटना एक दिन की नहीं आए दिन डॉक्टर के दु‌र्व्यवहार से मरीज, तीमारदार खिन्न रहते हैं। महिला ने अपने साथ किए गए दु‌र्व्यवहार से आहत है।

वायरल वीडियो के बारे में पूछने पर डॉ0 कौशल मौर्य, चिकित्साधिकारी सीएचसी मड़िहान ने बताया कि “महिला को भगाया नहीं गया है बल्कि लाइन से नहीं आ रही थी इसलिए उसे लाइन में आने को कहा गया तो वापस चली गई।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!