LG साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है- अरविंद केजरीवाल

फाइल फोटो

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने आम आदमी पार्टी (AAP) की सरकार को दोहरा झटका दिया है । दिल्ली में सिर्फ दिल्लीवासियों के इलाज के फरमान को पलटने के बाद उपराज्यपाल ने कहा है कि ऐसिम्प्टमैटिक लोग 5 से 10 दिन के भीतर कोरोना टेस्ट करा सकते हैं ।

उपराज्यपाल ने जारी आदेश में कहा है कि अब ऐसिम्प्टमैटिक लोग भी, जो सीधे किसी कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आए हैं, वह 5 से लेकर 10 दिन के अंदर कोरोना टेस्ट करवा सकते हैं । इससे पहले उपराज्यपाल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस फैसले को खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के कोरोना मरीजों का इलाज होगा ।

वहीं उपराज्यपाल के फैसले को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीलाल ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की है । केजरीवाल ने ट्वीट किया, LG साहिब के आदेश ने दिल्ली के लोगों के लिए बहुत बड़ी समस्या और चुनौती पैदा कर दी है । देशभर से आने वाले लोगों के लिए करोना महामारी के दौरान इलाज का इंतज़ाम करना बड़ी चुनौती है । शायद भगवान की मर्ज़ी है कि हम पूरे देश के लोगों की सेवा करें। हम सबके इलाज का इंतज़ाम करने की कोशिश करेंगे ।

आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पर निशाना साधा है । मनीष सिसोदिया ने ट्वीट किया, ‘बीजेपी की राज्य सरकारें PPE किट घोटालों और वेंटिलेटर घोटालों में व्यस्त हैं । दिल्ली सरकार सोच समझकर, ईमानदारी से इस डिज़ास्टर को मैनेज करने की कोशिश कर रही है । यह बीजेपी से देखा नहीं जा रहा इसलिए LG पर दबाव डालकर घटिया राजनीति की है ।’

बता दें कि दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के उस फैसले को खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में सिर्फ दिल्ली के कोरोना मरीजों का इलाज होगा ।

सूत्रों ने बताया कि उपराज्यपाल ने डीडीएमए चेयरपर्सन होने की हैसियत से संबंधित विभागों और प्रशासन को निर्देश दिया है कि बाहरी राज्य के किसी भी व्यक्ति को इलाज से मना न किया जाए ।बहरहाल, उपराज्यपाल के इस फैसले से दिल्ली के बाहर के कोरोना मरीजों और उनके परिवारों को राहत मिलेगी जो महामारी के दौरान इलाज की मांग कर रहे हैं ।

दिल्ली में हो रहे कोरोना टेस्ट की संख्या पर कांग्रेस ने सवाल उठाया है । कांग्रेस ने दावा किया कि दिल्ली सरकार ने टेस्ट की संख्या को आधा कर दिया है, जबकि टेस्ट की संख्या के अनुपात में पॉजिटिव मामलों की संख्या में वृद्धि हुई है । कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा है कि दिल्ली सरकार अपनी दो नाकामियों से ध्यान भटकाने की कोशिश कर रही है । कुछ देर पहले जारी दिल्ली सरकार के बुलेटिन के मुताबिक सोमवार को कोरोना टेस्ट घटकर 3700 हो गया है जबकि 29 मई को 7649 टेस्ट किए गए थे । कोरोना पॉजिटिव मामले प्रति सौ टेस्ट के अनुपात में 27 बढ़ते हैं ।

मनोज तिवारी ने कहा कि मैंने हनुमान जी से प्रार्थना किया कि वो अरविंद केजरीवा जी को भी स्वस्थ रखें । वो स्वस्थ रहें और दिल्ली को स्वस्थ रखने में उनकी जो भूमिका है उसका निर्वाह करें। कई समाचार ऐसे आ गए हैं कि इनका इलाज होगा, बाहर वालों का इलाज नहीं होगा । बाहर का तो कोई आ नहीं रहा है दिल्ली में। फिर ऐसी बात क्यों हो रही है ।दिल्ली के लोगों का इलाज हो, और अगर कोई बाहर का यहां रह गया हो तो उसके इलाज से मना करेंगे । इस तरह का इंसानियत को शर्मसार करने वाला निर्णय कम से कम दिल्ली को नहीं लेना चाहिए । दिल्ली देश की राजधानी है ।

राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना का कहर जारी है । दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 1007 मामले सामने आए हैं । दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़कर अब 29943 हो गई है। दिल्ली में कोरोना की चपेट में आने से बीते 24 घंटे में 17 लोगों की मौत हो चुकी है । इस तरह दिल्ली में कोरोना से अब तक कुल 874 लोग जान गंवा चुके हैं।

इसके अलावा दिल्ली सरकार द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन में डेथ ऑडिट कमिटी की रिपोर्ट के आधार पर 30 मई से लेकर 6 जून तक 62 कोरोना मरीजों की मौत की लेट रिपोर्टिंग भी हुई है । इन 62 मौतों में 5 जून को सबसे अधिक 27 मौतें दिल्ली हेल्थ बुलेटिन में दर्ज हुई हैं ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!