पुराने रौ में लौटने लगी शहर की आबोहवा, बदलने लगी फिजा की दास्तां

मनोहर कुमार (संवाददाता)

* सड़क दुर्घटना में हो रहा इजाफा
मारपीट की घटनाएं बढ़ी।



डीडीयू नगर।कोरोना काल का खतरा बढ़ रहा है।संक्रमितों की संख्या में इजाफा हो रहा है।लॉक डाउन फेज फाइव चल रहा है।अनलॉक एक जारी है।सहूलियत भी मिल रही है।इस सहूलियत के साथ अब शहरों की आबोहवा पुरानी रौ में लौटने लगी है।जिंदगी पटरी पर आ रही है।लोग अब मिली इस आजादी का जबरदस्त दुरुपयोग कर रहे हैं। जिससे खतरे की सम्भावना बढ़ी हुई है।
कोरोना का असर इस समय भारत ही नहीं पूरे में विश्व में दिख रहा है। लंबे लॉक डाउन से देश की अर्थव्यवस्था के साथ कई गतिविधियों पर विराम लगा था। कोरोना का संक्रमण अभी खत्म नहीं है।संक्रमित बढ़ रहे हैं। प्रवासी विभिन्न राज्यों में कार्य करने वाले मजदूर लॉक डाउन के बाद से अपने घर लौट गए है। देश मे कोरोना के संक्रमण के फैलाव व प्रभाव को रोकने के लिए देश में चरणबद्ध तरीके से लॉक डाउन चल रहा है। इस समय लॉक डाउन फेज फाइव का आगाज हो गया है।इसके साथ अनलॉक एक कि भी शुरुआत हो गई है। इसमें बहुत कुछ खोंले गए हैं।इसके साथ ही सहूलियत का पिटारा खुला है। इस पिटारे से शहर की आबोहवा फिर पुराने रंगत में लौट रही है।24 मार्च से सुनी सड़कें व सन्नाटे में पसरे स्टेशन फिर गुलजार होने लगे।स्टेशन पर ट्रेनों की परिचालन समयबद्ध तरीके से चलने लगा है। तो सड़कों पर वाहन दौड़ने लगे।बाजार खुल गए। लोगों की आवाजाही बढ़ गई है।अब सोसल डिस्टेंसिंग का पालन करना और कराना चुनौती बनती जा रही है।मास्क की उपयोगिता ढीली पड़ रही है।फिजिकल डिस्टेंस बनाने में फेल हो रहे हैं। सरकार की दी गई गाइड लाइन का पालन अक्षरशः नहीं हो रहा है। मौसम के मिजाज ने भी खलल डाल दिया है।मास्क,सेनेटाइजर व हेड कवर नहीं लगाया जा रहा है।प्रशासन भी सख्त के साथ सुस्त हो गया है।अनलॉक फेज वन में मिली आजादी का दुरुपयोग होने लगा है। दो गज की दूरी का पालन नहीं किया गया तो संक्रमण का खतरा सिर पर मंडराता ही रहेगा।सावधानी के साथ सहूलियत के पालन करना होगा।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!