अवैध खनन से नदियों के अस्तित्व पर संकट गहराया

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । विंढमगंज थाना व वन क्षेत्र के अंतर्गत ड्योढ़ी गांव कनहर रेलवे पुल के समीप कनहर नदी से बुधवार की रात्रि खननकर्ताओं द्वारा पचासों ट्रैक्टर बालू अवैध खनन किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। बताया जाता है कि निकाले गए बालू को रेलवे दोहरीकरण के विभिन्न साइटों समेत पड़ोसी राज्य झारखंड के छूमक, चैनपुर, घघरी, मकरी आदि गांवों में ऊंचे दाम पर सप्लाई किया गया। सूत्रों की मानें तो यह काम जिम्मेदारों के मिलीभगत और हरी झंडी मिलने के बाद किया गया। जिसमें प्रति ट्रैक्टर प्रति नाइट के तयशुदा राशि पर चलाने की अनुमति प्रदान की जाती है। इस मामले में अभी दो दिन पहले ग्रामीणों ने एसपी से खनन की शिकायत की थी।

ग्रामीण जमुना, दिलीप, शिवशंकर, धमेंद्र आदि का कहना है कि विभागीय मिलीभगत से क्षेत्र से गूजरी कनहर नदी से चोरी छुपके निकालकर अवैध बालू बेचा जा रहा है और विंढमगंज थाना क्षेत्र व वन रेंज में अवैध खनन से प्रतिदिन लाखों रुपये की अवैध धन उगाही की जा रही है। चूंकि विंढमगंज रेंज मुख्यालय से काफी दूर पड़ता है और रात्रि होने पर गस्त भी ना के बराबर हो जाती है, जिससे जिम्मेदारों के मिलीभगत से खननकर्ता बेख़ौफ़ अपने कार्यों को अंजाम दे रहे है। जब कोई ग्रामीण आवाज उठाने की कोशिश करता है तो उसे फर्जी मुक़दमे में फ़साने की कवायद शुरू कर दी जाती है। ग्रामीणों ने डीएम का ध्यान आकृष्ट कर ड्योढ़ी में कनहर रेलवे पुल के समीप हुए रेत की अवैध खनन की जांच की मांग करते हुए दोषियों पर कार्रवाई की मांग की है।

इस सम्बन्ध में वन विभाग के मण्डलीय उड़न दस्ता प्रभारी मनमोहन मिश्रा ने कहा कि “विंढमगंज रेंज से गुजरी कनहर नदी के ड्योढ़ी गांव के मुहाने समेत अन्य स्थानों से अवैध तरीके से ट्रैक्टरों के माध्यम से अवैध खनन की सूचना मिली है। मौके की जांच कर उचित कार्रवाई की जाएगी।”


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!