क़ानून को ताक पे रखकर हो रहा नावों का परिचालन

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही (ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर । अब जल मार्ग से भी क़ानून की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।बारा स्थानीय गांव में गंगा नदी में नावों का धड़ल्ले से परिचालन हो रहा है। क्षेत्र के विभिन्न गांवों के खासकर कृषक गंगा उस पार बांड़ में खेती-बाड़ी के कार्य के लिए नाव का ही सहारा लेते हैं। हालांकि प्रशासनिक अधिकारियों की इस पर नजर नहीं जा रही है। नावों में लोगों की भीड़ शारीरिक दूरी को भी मुंह चिढ़ाती नजर आ रही है। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए सुरक्षा के कोई उपाय भी नहीं करते देखे जा रहे हैं।

दरअसल कृषकों को गंगा उस पार बांड़ क्षेत्र में आने-जाने के लिए प्रशासन की तरफ से एक नाव के परिचालन की छूट दी गई है। अन्य नाविकों को पुलिस ने सख्त हिदायत दी है कि वे किसानों के अलावा किसी को भी गंगा पार न कराएं, जबकि, बांड़ में किसानों को लेकर आने-जाने वाली नाव की आड़ में अन्य नाविक भी भारी संख्या में मोटरसाइकिल व लोगों को नाव में बैठा कर गंगा पार करा रहे हैं। एक सवारी से 100 से दो सौ रुपये तक वसूले जा रहे हैं। कोतवाल गहमर विमल कुमार मिश्रा ने कुछ दिन पूर्व गंगा में नाव का परिचालन कर रहे एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर मुकदमा दर्ज किया था। बावजूद इसके इन दिनों पैसे की लालच में कई नाविकों द्वारा लोगों को गंगा पार कराया जा रहा है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!