किस्मत ने बचा लिया बड़ा हादसा, निर्माणाधीन सोन पुल पर चढ़ा रहा चारो स्लैब गिरा, बाल-बाल बचे मजदूर

पी0के0विश्वकर्मा (संवाददाता)

– पहले एक फिर, फिर गिरा शेष तीनों गाटर

ग्रामीणों ने की जांच की मांग

– अफवाहों का बाजार भी गर्म

कोन । स्थानीय थाना क्षेत्र के चाची-मझिगवां सोन नदी पर निर्माणाधीन पुल पर चढ़ाया गया चारो गाटर/स्लैब गिरने से हड़कम्प मच गया । राहत की बात यह है कि इस बड़े हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ । पुल पर काम करने वाले श्रमिक बाल-बाल बच गये । हालांकि घटना के बाद क्षेत्र में हड़कम्प मच गया ।मौके पर पहुंचे कंपनी के अधिकारियों ने आनन-फानन में क्रेन के जरिए मलबा हटवाने का काम शुरू करा दिया है । चारों स्लैब/गाटर गिरने के बाद से क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चा भी चल रही है ।

जानकारी के मुताबिक मंगलवार को निर्माणाधीन चांची-मझिगवां सोन पुल पर क्रेन से एक गाटर/स्लैब चढ़ाया जा रहा था । 60 टन का स्लैब/ गाटर जैसे ही लगभग 20 फीट ऊपर पहुंचा अचानक पिलर से नीचे गिर गया । अचानक घटना से मौके पर हड़कम्प मच गया । लेकिन संयोग अच्छा था कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ ।

रात्रि की घटना के बाद आज मौके पर पहुंचे कंपनी के अधिकारियों ने क्रेन की सहायता से मलबा हटवाने का काम शुरू किया था कि आज दोपहर बाद अचानक शेष बचे तीनों गाटर गिर गया । चारों गाटर गिरने के बाद तो मानों क्षेत्र में दहशत सा माहौल कायम हो गया। इस घटना जे बाद क्षेत्र में तरह-तरह की चर्चाओं की बाजार गर्म हो गया है। लेकिन एक बार फिर मौके पर काम कर रहे मजदूर बाल-बाल बच गए।

बतादें कि आठ स्लैब तीन पिलर पर चढ़ाये जा चुके थे। आठवां स्लैब चढ़ाए जाने के कुछ देर बाद गिर गया। शेष आज दोपहर बाद सभी तीन स्लैब गिरते ही मजदूरों में दहशत का माहौल पैदा हो गया। उधर ग्रामीणों ने घटिया काम कराने का आरोप लगाते हुये तत्काल उच्च स्तरीय जांच कराने की मांग की है। ग्रामीणों की माने तो अभी शुरुआत में ही गाटर गिर गया तो आगे अभी इसी पर स्लैब डालकर भारी वाहन चलने पर क्या स्थिति होगी।

इस संबंध मे प्रोजेक्ट मैनेजर हीरु गुर्जर ने कहा कि यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। पहले एक ही गाटर गिरा था, इसके बाद ऐतिहातन उस स्थान पर काम बंद कर दिया गया था कि शेष तेज हवा के कारण उपर में प्वाइटिगं नही होने के कारण गिर गयी। हादसा कैसे हुआ, इसकी टेक्निकल जांच कराकर गड़बड़ी दूर कराई जाएगी। काम के दौरान कार्यस्थल पर किसी के रहने की अनुमति नहीं रहती है। मशीन द्वारा काम होता है।

आपको बतादें कि लगातार तीन वर्षों से मझिआंव में सोन नदी पर मझिगवां से रानीडीह को जोड़ने के लिए पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। उक्त पुल भारत सरकार के अनुमोदन पर पीडब्ल्यूडी विभाग से निर्माण कराया जा रहा है जिसकी लम्बाई डेढ किलोमीटर व अनुमानित लागत लगभग 141 करोड़ से बनाया जाना है । संबंधित अधिकारियों ने बताया कि इसी लागत में पुल के दोनों साइट तीन-तीन किमी सडक का निर्माण भी शामिल है। उक्त पुल 2021 मे कम्पलीट करने का लक्ष्य निर्धारित है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!