महाराष्ट्र में राजनीतिक हलचल के बीच कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के मंत्रियों ने बुधवार को की चर्चा

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ते कोरोना वायरस के मामले और राजनीतिक हलचल के बीच बुधवार को सत्ताधारी तीनों पार्टियों के नेता और मंत्री एक साथ बैठे । कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के मंत्रियों ने बुधवार को चर्चा की । बैठक के बाद शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे का कहना है कि मंत्रियों ने प्रदेश में कोरोना संकट को लेकर चर्चा की और मौत की रफ्तार को कम करने रणनीति बनाई ।

इस बैठक में बालासाहेब थोराट, असलम शेख, वर्षा गायकवाड़, जयंत पाटिल, अजित पवार समेत कई बड़े नेता शामिल हुए ।एकनाथ खड़से ने कहा कि इस बैठक में कोरोना के मामले को लेकर चर्चा हुई, प्रदेश में पहले मौत की रफ्तार 7 फीसदी थी, जो अब सिर्फ 3.2 फीसदी है । वहीं डिस्चार्ज होने वालों का आंकड़ा 25 फीसदी से बढ़कर 40 फीसदी हो गया है।

दूसरी ओर सरकार की हलचल को लेकर शिवसेना नेता ने कहा कि सरकार पर किसी तरह का संकट नहीं है । उद्धव सरकार के पास 170 विधायकों का समर्थन है और कोई भी चिंता नहीं है ।हमारा फोकस सिर्फ कोरोना के मामलों को लेकर है । तीनों पार्टियों में किसी तरह का मतभेद नहीं है ।

मंत्री के मुताबिक, मुंबई में BKC के पास एक हजार बेड का क्वारनटीन सेंटर बनाया गया है, इसके अलावा एक और ऐसा सेंटर बनाया जा रहा है । सिर्फ मुंबई में ही अब 14 हजार से अधिक क्वारनटीन बेड की सुविधा है । उन्होंने कहा कि इनमें ऑक्सीजन, नॉन ऑक्सीजन, आईसीयू जैसी सुविधाएं होंगी ।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में महाराष्ट्र की सरकार को लेकर हलचल बढ़ी है, यही कारण रहा कि तीनों पार्टियों के बड़े नेताओं ने एक साथ मिलकर बात की ।इससे पहले कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी आदित्य ठाकरे से फोन पर बात की थी, जिसमें उन्होंने उस बयान को लेकर सफाई दी जिसमें राहुल ने कहा था कि कांग्रेस महाराष्ट्र में निर्णय लेने की क्षमता में नहीं है ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!