टिड्डी दल के प्रकोप से फसलों को बचाना है तो अपनाएं यह विधि

दीनदयाल शास्त्री (ब्यूरो)

पीलीभीत । किसान भाईयों इस समय पड़ोसी सीमावर्ती राज्य राजस्थान और उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में टिड्डी दल का प्रकोप दृष्टिगत हुआ है। इस कीट का वयस्क हरे अथवा पीले रंग का होता है। जो सामान्यता रेतीली भूमि में अण्डे देती है यह कीट भोजन की तलाश में एक ही रात सैकडों किलोमीटर की यात्रा झुण्ड में करता है। एक झुण्डे में लाखों की संख्या में कीट होते है, जो रास्ते में आने वाली किसी भी हरी वनस्पति (पत्तियों) को भोजन बना सकते हैं। इसे द्वारा होने वाले नुकसान से बचने के लिए निम्नलिखित उपाये किये जा सकते हैंः- रात को खेतों की निगरानी करें, खेत के किनारे मशाल जलायें, तथा टिड्डियों के आक्रमण के समय ढोल, थाली आदि बजाकर शोर करें जिससे टिड्डियां खेत में न उतर सकें। गम्भीर स्थिति में कृषि अथवा जिला प्रशासन को सूचित करें।
रेतीले एवं नम स्थानों जहां पर कीट के प्रजनन करने की सम्भावना है, वहां गहरी जुताई मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत धूल का बुरकाव करें। जैविक रोकथाम उपाय हेतु मेटाराइजियम स्पशीजज का स्प्रे करें। कीट के प्राकृतिक शत्रुओं जैसे गौरैया, लेडी बर्ड बीटल आदि का प्रयोग एवं संरक्षण करें।
रासायनिक उपचार के लिये क्विनालफास 25 ई0सी0, क्लोरपाइरीफास 20 ई0सी0 अथवा साइपरमेथ्रिन 4 प्रतिशत की 800 मि0ली0 अथवा लेम्डासाइलोहेथीन 5 प्रतिशत ई0सी0 अथवा मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत धूल मात्रा 600 ली0 पानी में घोल कर स्प्रे करना चाहिए। टिड्डी के नियंत्रण हेतु रसायन मैलाथियान 96 प्रतिशत यूएलवी का छिड़काव अत्यन्त प्रभावी होता है, परन्तु इस रसायन की जनसामान्य को उपलब्धता न होने के कारण कृषक अपने स्तर से इसका प्रयोग नही किया जा सकता। यह रसायन टिड्डी नियंत्रण से सम्बन्धित सरकारी तंत्र को ही उपलब्ध हो सकता है, इसलिए टिड्डी दल के आक्रमण की दशा में ईमेल पर सूचित करें। ताकि प्रशिक्षित व्यक्तियों एवं समुचित यंत्रों की के माध्यम से प्रभावशाली नियंत्रण कराया जा सके।
टिड्डी के प्रकोप के साथ ही कीट/रोग से सम्बन्धित किसी भी समस्या एवं उपचार से सम्बन्धित जानकारी हेतु विकासखण्ड वार व0प्रा0स0 ग्रुप बी (कृ0र0), प्रा0स0 ग्रुप सी एवं प्रभारी कृषि रक्षा इकाई के जनपद मुख्यालय जिला कृषि रक्षा अधिकारी डा0 मुकेश कुमार 9918342800, जनपद मुख्यालय पदनाम प्रा0स0 ग्रुप सी (कृ0र0) प्रांकर प्रकाश 7754925747 एवं विकाखण्ड मरौरी व0प्रा0स0 ग्रुप बी (कृ0र0) हरिनन्दन प्रसाद गंगवार -9758431951, बरखेड़ा व0प्रा0स0 ग्रुप बी (कृ0र0) यशपाल सिंह 9720090690, बीसलपुर व0प्रा0स0 गु्रप बी (कृ0र0) पीताम्बर सिंह 7533856897, ललौरीखेड़ा प्रा0स0 ग्रुप सी (कृ0र0) यतीन्द्र कुमार सिंह 08279821210, अमरिया प्रा0स0 गु्रप सी (कृ0र0) डा0 डाल सिंह गंगवार 9411286092, बरखेडा प्रा0स0 ग्रुप सी (क0र0) वेदप्रकाश 7895394725, बीसलपुर प्रा0स0 ग्रुप सी (क0र0) वेदप्रकाश 7895394725, विकासखण्ड बिलसण्डा प्रा0स0 ग्रुप सी (कृ0र0) जसवंत सिंह 9690410663 व विकासखण्ड पूरनपुर पदनाम प्रा0स0 ग्रुप सी (कृ0र0) विजयपाल सिंह 9412495975 पर सम्पर्क कर सकते हैं।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!