डीएम के निर्देश पर नगर पंचायत जहानाबाद में निगरानी समिति का किया गया गठन

राजेश गुप्ता (संवाददाता)

पीलीभीत। कोविड-19 के मद्देनजर प्रवासी कामगारों के प्रदेश में लौटने पर क्वॉरेंटाइन करने के संबंध में मुख्य सचिव उत्तर प्रदेश शासन चिकित्सा अनुभाग 5 के शासनादेश पर प्राप्त निर्देशों के क्रम में पीलीभीत जिलाधिकारी वैभव श्रीवास्तव के द्वारा दिए गए आदेश के अनुपालन में जनपद में प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर ग्राम प्रधान की अध्यक्षता में एवं नगर क्षेत्र में बाढ़ मेंबरों की अध्यक्षता में निगरानी समितियों का गठन करने के निर्देश दिए गए हैं। इसी क्रम में जनपद पीलीभीत की जहानाबाद में नगर पंचायत में अधिशासी अधिकारी निसार हैदर नगर पंचायत जहानाबाद के प्रत्येक वार्ड में निगरानी समिति का गठन कर दिया है।वहीं मीडिया को जानकारी देते हुए अधिशासी अधिकारी निसार हैदर ने मीडिया को निगरानी समिति के कर्तव्य के बारे में बताया है
*निगरानी समिति के प्रमुख कार्य* 1-निगरानी समिति द्वारा कोविड-19 से बचाव हेतु सरकार द्वारा समय-समय पर निर्गत दिशानिर्देशों निर्णय उसे सामान्य जनमानस को जागरूक कराना तथा इसका अनुपालन सुनिश्चित कराना है।
2- मोहल्ला तथा वार्ड में किसी बाहरी व्यक्ति के आने की सूचना तत्काल स्थानीय प्रशासन स्वास्थ्य विभाग को प्रदान करना है।3-निगरानी समिति के द्वारा प्रभावित क्षेत्र में घर-घर जाकर संपर्कों की खोज करने में तथा सर्विलांस टीम की सहायता करना है।4-क्षेत्र में 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों एवं गंभीर रोगों से ग्रसित व्यक्तियों गर्भवती महिलाओं एवं छोटे बच्चों जैसे उच्च जोखिम वर्ग वाले सदस्यों पर विशेष ध्यान देना है।
5-निगरानी समिति के द्वारा बिना स्क्रीनिंग के सीधे ही अन्य राज्यों जनपदों से वापस आने वाले प्रवासियों का पंजीकरण एवं उनकी स्क्रीनिंग सुनिश्चित कराना है।6-फिर वासियों और उनके परिवार द्वारा निर्धारित अवधि तक होम क्वॉरेंटाइन का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराना तथा होम क्वॉरेंटाइन हेतु यथासंभव पृथक कमरे का प्रयोग सुनिश्चित कराना है।7- निगरानी समिति के द्वारा क्वॉरेंटाइन किए गए प्रवासी के घर से केवल एक व्यक्ति को आवश्यक सामग्रियों को लेने हेतु घर से बाहर निकलने की अनुमति प्रदान करना एवं बाहर निकलते समय इस व्यक्ति के द्वारा समस्त आवश्यक सावधानियां अपनाई जाएंगी।8-निगरानी समिति के द्वारा परिवार से फोन पर नियमित संपर्क करके उनको क्वॉरेंटाइन अवधि को पूरा करने के लिए प्रोत्साहित करना तथा उनको पूर्ण सहयोग प्रदान करना जिससे परिवार स्वयं को अकेला तथा असहाय न समझे तथा पड़ोसियों से भी उस परिवार का सहयोग करने हेतु जागृत करना है।
9- प्रवासियों के घरों पर होम क्वॉरेंटाइन फ्लायर/पोस्टर का लगाया जाना सुनिश्चित करना है।
10- क्वॉरेंटाइन किए गए परिवारों तक सरकार द्वारा प्रदत्त सुविधाओं की पहुंच सुनिश्चित कराना है।11-सार्वजनिक हैंडपंप पर प्राथमिकता के आधार पर साबुन की व्यवस्था कराना है।12-क्वॉरेंटाइन की अवधि में इन प्रवासियों और उनके परिवारों को संबल प्रदान करना तथा उनसे किसी भी प्रकार के भेदभाव को रोकना है।13-होम क्वॉरेंटाइन किए गए प्रवासी मजदूर अथवा अन्य जरूरतमंद लोग जैसे वृद्ध/ अशक्त/ गर्भवती महिला/गंभीर बीमारी से ग्रसित व्यक्ति जिसकी देखभाल के लिए कोई ना हो अथवा ऐसे व्यक्ति जिनके घरों में क्वॉरेंटाइन किए जाने की प्रथक जगह ना हो ऐसे लोगों के लिए पंचायत में अलग से क्वॉरेंटाइन राशन तथा साबुन आदि आवश्यक वस्तुओं की व्यवस्था कर उनकी देखभाल का उचित प्रबंध करना है।14-क्वॉरेंटाइन किए गए व्यक्तियों सहित क्षेत्र की आम जनता आरोग्य सेतु मोबाइल ऐप डाउनलोड करने एवं इसका सक्रिय प्रयोग करने हेतु प्रेरित करना है।15-होम क्वॉरेंटाइन के नियमों का उल्लंघन करने की सूचना जिला प्रशासन को प्रदान करना एवं जन मानस को गमछा/अंगोछा/दुपट्टा घर पर निर्मित मास्क का प्रयोग करने हेतु प्रेरित करना है।16-निगरानी समिति के द्वारा आम जनमानस में नियमित रूप से हाथों को धोने की आदत डालने हेतु प्रेरित करना’2 व्यक्तियों के बीच कम से कम 2 गज की दूरी रखने का संदेश प्रसारित करना,सामाजिक/धार्मिक/शादी समारोह/शोक सभा आदि में प्रोटोकॉल के अनुसार न्यूनतम व्यक्तियों को प्रतिभाग करने हेतु सहमत करना,सार्वजनिक स्थानों/ गलियों/सार्वजनिक पेयजल स्रोतों तथा क्वॉरेंटाइन किए गए घरों के आसपास विसंक्रमण सुनिश्चित कराना है।17-निगरानी समिति के द्वारा कोविड-19 से संबंधित जोखिम और उसके सुरक्षात्मक उपायों के विषय में समुदाय में ऐलान/डुगडुगी के माध्यम से जागरूक सुनिश्चित कराना एवं कोविड-19 से संबंधित किसी भी घटना की सूचना तत्काल जनपदीय नियंत्रण कक्ष या टोल फ्री नंबर 1800 180 5145 को प्रदान करना है।18-बाहर से आए समस्त व्यक्तियों को 21 दिनों तक होम क्वॉरेंटाइन में रखना सुनिश्चित करना तथा 21 दिन पूरा होने के बाद यदि कोई लक्षण उत्पन्न नहीं होता है तब उन्हें क्वॉरेंटाइन से मुक्त करना है।19-होम क्वॉरेंटाइन समाप्त होने पर फ्लायर को घर से हटाना एवं ग्राम मोहल्ले में इस बात का प्रचार करना कि उक्त व्यक्ति परिवार का होम क्वॉरेंटाइन समाप्त हो गया है।
वहीं इसके अतिरिक्त भ्रमण के दौरान संक्रमण से बचाव के लिए निगरानी समिति के सदस्यों के लिए निम्न सावधानियां बरती जानी है भ्रमण के दौरान निगरानी समिति के सदस्यों के द्वारा गमछा अथवा दुपट्टा मास्क आदि का प्रयोग तथा परिवार के सदस्यों से कम से कम 2 गज की दूरी को बनाए रखना, भ्रमण से पूर्व एवं उपरांत हाथों को अच्छी तरह से साबुन से धोना, तथा इसी दौरान दरवाजे अथवा दरवाजों के हैंडल अथवा बार-बार स्पर्श की जाने वाली अन्य सतहों ना स्पर्श ना करना तथा परिवार के सदस्यों को फोन से अथवा आवाज देकर सुरक्षित खुले स्थान पर वार्ता हेतु बुलाना जैसी सावधानियों को बरतते हुए क्षेत्र में अथवा बाढ़ में कार्य करना है।
नगर पंचायत जहानाबाद के वार्ड संख्या 4 में बनाई गई निगरानी समिति जिनमें छोटू खान,पप्पू, सीमा रानी,रामबेटी,सतीस गुप्ता, राजेश गुप्ता,विनोद गुप्ता,भरत गुप्ता,प्रेम गुप्ता,महकार सिंह,शिवा गुप्ता,निजामुद्दीन आदि निगरानी समिति के सदस्य बनाए गए हैं।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!