रोजा इफ्तार में दिखा सोशल डिस्टेंसिंग, सार्वजनिक स्थल के बजाय घर परिवार के साथ खोल रहे रोजा

शैफाली रस्तोगी (संवाददाता)

सिरौली (बरेली) । रमजान का पवित्र महीना खत्म होने को है । पूरा पवित्र महीना कोरोनाकाल में ही बीत गया । लेकिन सबसे बड़े इस पर्व में जिस तरीके से मुस्लिम भाईयों ने देश हित में अपनी भागीदारी व सहभागिता दिखाई है, वह काबिले तारीफ है । नमाजियों ने पूरे महीने रमजान की नमाज अपने घरों में पढ़ा और खुदा से अमनचैन की दुआ मांगी । आज यदि चांद दिखा तो कल ईद होगा । इसी के मद्देनजर आज रोज इफ्तार भी रखा गया । लेकिन खास बात यह रही कि रोज इफ्तार में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया ।

हालांकि लॉकडाउन में बाजारों में रौनक गायब है ।पहले लोग आज के दिन खूब ख़रीददारी किया करते थे । मगर इस बार लोग अपनी आस्था को अपने घरों में ही रहकर पूरा कर रहे हैं । अन्य वर्षो की तरह इस बार लोग एक साथ ना होकर अलग-अलग रोजा इफ्तार कर रहे हैं, वह भी अपने घर में परिवार के साथ।

डॉक्टर इमरान बेग ने बताया कि देश में कोरोना के कहर को कम करने के लिए दूरी बनाए रखना आवश्यक है। उन्होंने लोगों से कहा कि सरकार के नियमों का पालन करते हुए कार्य करें । उन्होंने अपील की कि खुद सुरक्षित रहे, परिवार को सुरक्षित रखें और अपने नगर को भी सुरक्षित रखें ।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!