कोरोना से जंग में ‘एस डी’ को एस डी में बदलना होगा

* सोसल डिस्टेंसिंग मतलब सेल्फ डिसिप्लिन
कोरोना के कहर से कांप रहे लोग।

* एल डी फोर में मिली सहूलियत का हो सकता है दुष्परिणाम।

मनोहर कुमार

चन्दौली। कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने के लिए अब लोगों को खुद तैयार करना होगा।सरकारी गाइड लाइन के जरिये अपने को सुरक्षित रखना होगा। कोरोना वायरस का संक्रमण जिस तरह हावी हो रहा है। इसमें थोड़ी लापरवाही भारी पड़ सकती है। जनपद में कोरोना ने सोलहवाँ शिकार कर लिया है। लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग को सेल्फ डिसिप्लिन में लाना होगा। लापरवाही भारी पड़ रही है। लॉक डाउन फोर में मिली सहूलियत का लाभ सावधानी से उठाना होगा।
वैश्विक बीमारी का रूप लेकर सामने आया कोरोना वायरस ने अपना जाल और मजबूत करता जा रहा है। विश्व मे मरीजों की संख्या में इजाफा होता जा रहा है। भारत में भी कोरोना वायरस का रफ्तार तेज हो गया है
कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा सवा लाख के पार है।24 घण्टे में नये मामले 6654 हैं।नई मौतों का आंकड़ा 137 है।कुल मामले 125101 हो गए है। इस समय कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव व प्रभाव को रोकने के लिए लॉक डाउन फोर चल रहा है। विभिन्न राज्यों में कार्य करने वाले मजदूरों की लॉक डाउन के चलते वापसी हो रही है। पूर्वांचल में कोरोना संक्रमितों को ग्राफ बढ़ रहा है। चन्दौली में 16 लोग संक्रमित हैं। ऐसे में सावधानी ही उपचार बनती जा रही है। एक और सरकार ने लॉक डाउन फेज फोर में गाइड लाइन के साथ सहूलियत दी है।यह सहूलियत में लोग लापरवाह हो रहे हैं।सोशल व फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया जा रहा है।बहुतेरे तो बिना मास्क के ही घूम रहे हैं। अब लोगों को चेतना होगा। सोशल डिस्टेंसिंग को सेल्फ डिसिप्लिन में तब्दील करने के लिए तैयार करना होगा। आत्म अनुशासन से ही करना कोरोना को हराया जा सकता है। धान के कटोरे में आंकड़ा 16 तक पहुंच गया है।ऐसे में लोगों को सावधानी बरतनी होगी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!