नगर पंचायत के नये निर्णय से नई बस्ती में पेयजल की किल्लत

कृपाशंकर पाण्डेय(संवाददाता)

ओबरा। नई बस्ती सेक्टर 10 के रहवासियों के जीवनयापन में पहले ही कई कठिनाइयां आड़े आ रही थीं। जिसमें पेयजल की समस्या प्रमुखता से चली आ रही है। जिसके समाधान के लिए नगर पंचायत ओबरा के द्वारा कुछ हैंडपम्प लगाकर तथा कुछ पानी के टैंकरों के द्वारा लगातार आपूर्ति कर राहत पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा था। लेकिन नगर पंचायत के द्वारा वर्तमान में हैंडपम्प को निकाल कर समरसेबल पम्प के द्वारा पेयजलापूर्ति के नये निर्णय लेने से बस्तीवासियों के सामने पानी की बड़ी समस्या उत्पन्न हो गयी है। हालात इस कदर है कि पानी भरने को लेकर रोज़ सुबह से शाम तक किसी न किसी से किचकिच होती रहती है। लोगों ने इस संबंध में बताया कि जब हैंडपम्प लगा था तब पानी लेने के लिए लोगों की इतनी भिड़ इकट्ठा नही हो पाती थी। सबको आसानी से पानी मिल जाया करता था ।परंतु जब से नगर पंचायत के द्वारा हैंडपम्प निकाल कर समरसेबल पम्प डाल दिया गया है तब से पानी की समस्या विकट हो गयी है। जिसका मुख्य कारण लो वोल्टेज का होना तथा मोटर का कनेक्शन ब्यक्ति विशेष के घर से होना है। एक तो लो वोल्टेज की की वजह से पानी बहुत ही कम मात्रा में निकलता है दूसरे विधुत कनेक्शन किसी एक के घर से होने के कारण कुछ घंटे ही मोटर चलाया जाता है जो कि पर्याप्त आपूर्ति नही हो पाती है। तथा प्रतिदिन पानी भरने के लिए भारी भिड़ इकट्ठा हो जाती हैं और स्तिथि तनावपूर्ण हो जाती है । जबकि पहले ऐसा नही था । हैंडपम्प होंने से 24 घंटे पानी निकलता था और सभी लोगो को आसानी से पानी मिल जाया करता था । भीड़ भी नहीं लगती और विवाद की स्तिथि भी नही बन पाती थी। लेकिन जब से पम्प लगाया गया है समस्या बढ़ गयी है। लोगों ने नगर पंचायत का ध्यानाकर्षित कराते हुए। इस समस्या का अविलंब समाधान कराने का अपील किया है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!