प्रवासी श्रमिकों के लिए डीएम ने जारी किया मानक संचालन प्रक्रिया

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने जिले में आ रहे मजदूरों के व्यवस्थाआेंं का मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी निर्धारित करते हुए लॉक डाउन के दौरान लौट रहे कामगार/नागरिकों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी जारी करते हुए सेवाभाव से लगकर मजदूरों/नागरिकों को आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराते हुए उनके घरों तक पहुंचाने की जिम्मेदारी तय कर दी है।
उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को रोकने के लिए चल रहे देशव्यापी लॉक डाउन अवधि में प्रवासी कामगारों/नागरिकों का जिले में व अन्य प्रदेश से बसों के माध्यम से आने का क्रम जारी है। जो प्रवासी श्रमिक आयेंगें, उनके मूवमेन्ट का तहसीलवार मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी निर्धारित कर दिया है।
तहसील राबर्ट्सगंज के लिए मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी के तहत अन्य प्रदेशों/जनपदों से आने वाले प्रवासी श्रमिकों को लेकर आने वाले बस सर्वप्रथम साईं नर्सिंग कालेज सजौर जायेगी, साईं नर्सिंग कालेज सजौर की क्षमता पूरी होने पर संतजेवियर्स स्कूल राबर्ट्सगंज जायेंगें। संत जेवियर्स स्कूल राबर्ट्सगंज की क्षमता पूरी होने पर आर0आर0 पालिटेनिक्क कालेज हिन्दुआरी जायेंगी। डायट पर पूर्व से संचालित आश्रय स्थल को यथावत क्रियाशील रखा जायेगा। आश्रय स्थल पर दिन में कम से कम 10 काउंटर संचालित रहेगा, जो आने वाले प्रवासी कामगारों/श्रमिकों का पूरा डाटाबेस तैयार करेंगें। इसके अलावा रिजर्व आश्रय स्थल की भी सूची बनाकर तैयारी हालत में रखना होगा। चारों आश्रय स्थलों की क्षमता पूरी होने पर उप जिलाधिकारी राबर्ट्सगंज रिजर्व सूची आश्रय स्थलों के क्षमता का उपयोग करेंगें।
इसी प्रकार से तहसील घोरावल के लिए मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी के तहत तहसील घोरावल क्षेत्र स्थित धूरकरी बार्डर पर तीन शिफ्ट में सेक्टर अधिकारियों की ड्यूटी अनिवार्य रूप से क्रियाशील रहेंगी। धूरकरी बार्डर पर अन्य प्रांतों/जनपदों से जो प्रवासी श्रमिक/ कामगार/नागरिक रोडवेज/प्राइवेट बसों द्वारा आते हैं, उन्हें क्रमवार सबसे पहले आश्रम पद्धति विद्यालय घोरावल पर ले जाया जायेगा, आश्रम पद्धति घोरावल की क्षमता पूरा होने पर वीरमति महाविद्यालय में प्रवासी मजदूर/नागरिकों को ले जाया जायेगा। प्रत्येक आश्रय स्थल पर दिन में कम से कम 10 काउंटर संचालित कर आने वाले प्रवासियों का पूरा डाटाबेस तैयार करने के साथ ही रिजर्व आश्रय स्थल को भी तैयारी हालत में रखना होगा।
इसी प्रकार से तहसील दुद्धी के लिए मानक संचालन प्रक्रिया/एसओपी के तहत दुद्धी तहसील के बभनी बार्डर पर तीन शिफ्ट में सेक्टर अधिकारियों की ड्यूटी अनिवार्य रूप से क्रियाशील रहेगी। बभनी बार्डर पर अन्य प्रांतों/जनपदों से जो प्रवासी मजदूर/नागरिक रोडवेज/प्राइवेट बसों से आते हैं, उन्हें फेहरिश्तवार सबसे पहले मॉ मैत्रायणी योगिनी इण्टर कालेज पर ले जाया जायेगा, यहॉ की क्षमता पूरा होने पर श्रीराम डिग्री कालेज में ले जाया जायेगा, श्रीराम डिग्री कालेज की क्षमता पूरा होने पर सेन्ट लूईस इण्टर कालेज में कामकार प्रवासी श्रमिकों को ले जाया जायेगा और वहॉ पर 5-5 काउंटर क्रियाशील रहेगा। शक्तिनगर बार्डर पर तीन शिफ्टों में सेक्टर अधिकारियों की तैनाती रहेगी, जो अन्य प्रांतों/जिलों से आने वाले कामकारों को सबसे पहले श्री अवधूतराम डिग्री कालेज औड़ी में ले जाया जायेगा, जिनकी क्षमता पूरा होने पर श्री रामलखन शम्भूनाथ इण्टर कालेज में ले जाया जायेगा और वहां पर 10-10 काउंटर क्रियाशील रखते हुए सभी कामकारों का डाटा तैयार किया जायेगा साथ ही विकल्प के रूप में रिजर्व आश्रय स्थल की भी सूची तैयार रखी जायेगी।
जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने जिले के सभी उप जिलाधिकारियों को आदेशित किया है कि आश्रय स्थलों की क्रियाशीलता/संचालन की जानकारी निर्धारित पेशानी में भरा जायेगा और नोडल अधिकारियों द्वारा 24 घंटे शिफ्टवार 8-8 घंटे की ड्यूटी के तहत पूरी तत्परता के साथ आश्रय स्थल को क्रियाशील रखा जायेगा। आश्रय स्थल पर खाना खिलाने, स्वास्थ्य परीक्षण कराने, उनकी पहचान करने सम्बन्धी सभी कार्यवाही की जायेगी। आश्रय स्थलों को सेनिटाइजेशन के साथ ही व्यक्तिगत साफ-सफाई के लिए साबुन, हैण्डवास, सेनिटाइजर, शुद्ध पेयजल आदि मुकम्मल व्यवस्था रखी जाय। आश्रय स्थल व ट्रांजिट प्वाइंट पर मुकम्मल व्यवस्था सुनिश्चित की जाय और पर्याप्त मात्रा में राशन किट की उपलब्धता बनाये रखने के साथ ही सुबह व शाम में 07.00 से 08.00 बजे के मध्य प्रवासी नागरिकों/मजदूरों को भरपेट भोजन कराया जाय।

इस दौरान जिलाधिकरी एस0 राजलिंगम ने जिले के नागरिकों से सहयोग की अपील करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री द्वारा नोवेल कोरोना वायरस-(कोविड-19) के संक्रमण को रोकने के लिए लॉक-डाउन के मद्देनजर सभी जनपदवासियों से अपने घरों में रहने का अनुरोध किया गया है। प्रधानमंत्री के सद्इच्छा के अनुरूप सोनभद्र जिले के नागरिकों के घर पर ही आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गयी है। जिलाधिकारी ने अपने अपील में कहा है कि नागरिकों के लिए उनके घर पर जरूरी सामानों को मुहैया कराने की व्यवस्था नागरिकों की धैर्य व सहयोग से ही सफल होगी।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!