नागरिकों का दर्द : एक तो लॉकडाउन, ऊपर से बिजली विभाग का जुलुम

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

★ बिजली की कटौती से लोगों की बढ़ी बेचैनी

★ रावर्ट्सगंज नगर में छह से सात घण्टे गुल रही बिजली

★ एक तो लॉक डाउन और ऊपर से गर्मी ने लोगों की बढ़ाई मुश्किलें

सोनभद्र । एक तरफ जहाँ वैश्विक महामारी घोषित हो चुके कोरोना वायरस (कोविड-19) के कारण सरकार ने लॉक डाउन 4.0 की घोषणा कर दी है जिससे लोग अपने-अपने घरों में बंद हैं वहीं दूसरी ओर गर्मी का मौसम आते ही बिजली की आंख मिचौली भी शुरू हो गई है। लॉक डाउन 4.0 के दौरान सरकार की गाइड लाइन के अनुसार 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चे व 65 वर्ष से ऊपर के बुजुर्गों को घरों में रहने की हिदायत दी गयी है वहीं अघोषित बिजली कटौती से सबसे ज्यादा परेशानी भी इन्हीं को झेलना पड़ता है।

सूबे के मुख्यमंत्री ने शहर, देहात को 24 घंटे तक बिजली आपूर्ति देने का दावा किया था, लेकिन गर्मियां आते ही निगम अधिकारियों की तैयारियों का दावा फुस्स हो गया है। आलम यह है कि दिन और रात में अघोषित कटौती ने लोगों की नींद, आराम छीन लिया है। देहात अंचल में रात में पांच घंटे तक कटौती की जा रही है। ग्रामीणों को गर्मी और मच्छरों के प्रकोप से परेशान होना पड़ रहा है। अफसर पर्याप्त आपूर्ति मिलने का दावा कर रहे हैं, जबकि ग्रामीण अघोषित कटौती झेलने को मजबूर हो रहे हैं।

कमोबेश यहीं हाल नगरीय क्षेत्रों का भी है।आज रॉबर्ट्सगंज नगर पालिका क्षेत्र बिजली विभाग द्वारा कांशीराम आवास सबस्टेशन पर उच्च क्षमता ट्रांसफार्मर को बदलने का वक्त गलत चुनने का खामियाजा आम जनता को भुगतना पड़ा। उस पर यह काम व्यवस्थित तरीके से नहीं चल सका। इसके चलते एक साथ छह से साथ घंटे की बिजली कटौती की गई, जिसने लोगों को बेहाल कर दिया। उमस भरी गर्मी में लोग पसीने- पसीने होते रहे।

लोगों ने बताया कि जरा सी हवा व हल्की सी बारिश में बिजली बंद हो जाती है और लोग जब बिजली बंद होने का कारण जानने सब स्टेशन जाते है या विभाग में फोेन करते हैं। तो वहां के कर्मचारियों का रटा रटाया जवाब होता है कि मेंटनेंस के कारण बिजली बंद की गई है।

सरकार भले ही बिजली विभाग में सुधार के लाख दावे करे लेकिन बिजली विभाग का रवैया हर सरकार में एक जैसा ही रहा है। बड़ा सवाल यह उठता है कि बिजली कटौती होती है मेंटेनेंस के नाम पर लेकिन हर साल मेंटेनेंस के लिए जो पैसा खर्च किया जाता है आखिर वह जाता कहा है?


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!