मुख्यमंत्री के आदेशों की उड़ रही धज्जियां, भूसे की तरह ठूंसकर ट्रकों से भेजा जा रहा कोरेंटाइन सेंटर

आलोक शर्मा (संवाददाता)

आंवला । आज तहसील आंवला मैं जहां लॉक डाउन में लोगों के लिए शासन ने विभिन्न नियम कायदे बना दिए हैं लेकिन खुद उन पर ही प्रशासन खरा नहीं उतर रहा हम बात कर रहे हैं आज सहारनपुर से आई रोडवेज बस की जिसमें 48 यात्रियों को पूरी तरह से भर दिया गया अब यहां सोशल डिस्टेंस कहां रही वैसे कोरोनावायरस में लोगों से दूरी बनाने की बात सरकार विभिन्न विज्ञापनों के माध्यम से जन जन तक पहुंचा रही है वहीं इस पर सरकारी तंत्र आंखें मूंदे हुए हैं आज यही मंजर आंवला तहसील में देखने को मिला जिसमें रोडवेज बस में लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का एक नया पाठ पढ़ने को मिला जो पूरी तरह बस को भरे हुए था यह पाठ यहीं पर समाप्त नहीं हुआ जब दूसरे ट्रक में इन मजदूरों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने की बजाय सिटी पब्लिक स्कूल देवचरा मैं कोरेंटाइन सेंटर भेजने के लिए भी बुरी तरह से ट्रक में भर दिया अब सोशल डिस्टेंसिंग कहां है क्या सोशल डिस्टेंसिंग आम आदमी के लिए ही है प्रशासनिक अधिकारियों के लिए कोई वाहन की सुविधा उनके पास नहीं है या वह इतनी जल्दबाजी क्यों कर रहे हैं क्या तब तक वह अपने यहां राशन पानी की व्यवस्था तहसील स्तर पर नहीं कर सकते जब तक उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए वाहन की सुविधा ना हो जाए अब उस पर भी सोने पर सुहागा यह हो जाता है कि पत्रकार उनसे इनके विषय में मौके पर ही जानकारी जुटा ता है तो प्रशासनिक अधिकारियों का रवैया बेहद ही तल्ख नजर आता है जिससे तहसील प्रशासन की मजदूरों के प्रति मंशा साफ जाहिर होती है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!