क्वारंटाइन करने के लिए प्रधानों ने कसी कमर

* ग्रामीणों में ब्याप्त भय को दूर करने को कर रहे जागरूक

विनोद कुमार (संवाददाता)

शहाबगंज। सैकड़ों की संख्या में प्रतिदिन प्रवासी श्रमिक अपने घरों को लौट रहे है।वहीं कुछ गांवों में कोरोना मरीज मिलने के बाद संभावित खतरे को देखते हुए ग्रामीणों में भय ब्याप्त हो गया है।सुविधा समपन्न लोग तो होम क्वारंटाइन हो जा रहे है।लेकिन सबसे बड़ी समस्या मजदूर वर्ग के सामने आ रही है।मजदूरों के इसी समस्या को देखते हुए विकास खण्ड के प्रधानों मजदूरों को क्वारंटाइन करने के लिए विद्यालयों,पंचायत भवनों में रहने की ब्यवस्था शुरू कर दिया।बसाढ़ी गांव के प्रधान ने चार मजदूरों को पंचायत भवन में क्वारंटाइन कराया तो खरौझा गांव की प्रधान अमृता श्रीवास्तव ने अन्य प्रदेशों से आये 38 श्रमिकों को विद्यालय में क्वारंटाइन रहने की ब्यवस्था किया।जबकि भोड़सर गांव की प्रधान ने मजदूरों को विद्यालय में रहने की ब्यवस्था करने के साथ पुरे गांव को सेनेटाईज कराया।इसी तरह अन्य गांव के ग्रामप्रधान भी श्रमिकों के मदद में जूट गये है।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!