प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के लिये,शासन ने छ.ग.बार्डर पर भेजी कई बसे

ख्वाजा खान (संवाददाता)

-घर पहुँचने की खुशी में मजदुरों की हुयी आंखें नम सरकार को कहा धन्यवाद योगी जी


बभनी। कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव से बचाव को लेकर पूरे देश में लॉकडॉउन लगा हुआ है । ऐसे में सबसे ज्यादा संकट में कोई है तो वह दूसरे शहरों में कमाने गये मजदूर। पुरे देश में लॉकडाउन होने के वजह से सभी दूकान, फैक्ट्री, शहर आदि बंद है। इसी वजह से ये प्रवासी मजदूर सैकड़ो किलोमीटर पैदल, साईकिल व ट्रक में बैठ कर अपने गाँव पहुंचने की कोशिश में लगे है। सोमवार को हजारों मजदूरों का झुंड बभनी के आसनडीह के पास पहुंचा ।जहाँ उन्हें उनके घर तक पहुंचाने के लिए उप्र सरकार की कई बसे खडी थी ।जहां से उन्हें रुट बायी रुट उनके घरो तक पहुंचाया जायेगा । जो मजदूर सैकड़ो किलोमीटर साइकल चला कर व पैदल चल कर भूखे प्यासे उत्तर प्रदेश बॉर्डर पार कर रहे थे । पुलिस ने उन्हें आसनडीह बार्डर से बभनी कोरन्टाइन सेन्टर में ले आयी जहा से बसों के द्वारा उन्हे उनके गाँव तक पहुचाया जायेगा। बभनी मे मजदुरों की स्क्रीनिंग के बाद ही उन्हें उनके घर भेजा जायेगा। पुलिस व पंचायत विभाग के कर्मचारियों ने श्रमिकों के लिए भोजन का पैकेट और पानी की व्यवस्था किया गया हैं। मौके पर व्यवस्था मे लगे बभनी के ग्राम विकास अधिकारी गिरिशचन्द दुबे ,पार्थराज सिह ,कन्हैयालाल, बभनी कोतवाल अविनाश चंद्र सिन्हा सफाई कर्मचारी व स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर व नर्स आदि।


अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
error: Content is protected !!